लापरवाह हैं रेलवे के अधिकारी, घंटों तक वैगन में धूं धूं कर जलता रहा कोयला और इनके कान में जूं तक न रेंगी

लापरवाह हैं रेलवे के अधिकारी, घंटों तक वैगन में धूं धूं कर जलता रहा कोयला और इनके कान में जूं तक न रेंगी

Anil Kumar Srivas | Updated: 27 May 2019, 04:08:32 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

कोयले से भरे वैगन से धुआं निकलता हुआ दिखाई दिया

बिलासपुर. रविवार की सुबह 6 बजे कोचिंग यार्ड जाने वाले राहगीरों व रेलवे कर्मचारियों को कोयले से भरे वैगन से धुआं निकलता हुआ दिखाई दिया। इसकी सूचना लोगों ने रेलवे अधिकारियों को दी। सुबह 6 बजे सूचना मिलने के बाद भी अधिकारियों ने आग बुझाने की दिशा में कोई खास प्रयास नहीं किया। सूचना पर पहुंची फायर ब्रिग्रेड की टीम भी घंटों तक रेलवे अधिकारियों का इंतजार करती रही। बिलासपुर मंडल के अधिकारी वैगन में लगने वाली आग को लेकर कितने गंभीर हैं, इसकी बानगी रविवार को दिखाई दी। सुबह 6 बजे लोगों व कोचिंग डिपों को कर्मचारियों ने कोयले से भरे वैगन से धुआं निकलते देखा तो अधिकारियों को फोन पर इसकी सूचना दे दी। सुबह 6 बजे से लेकर दोपहर 2.20 तक कोयला धू-धू जलता रहा और अधिकारी नदारत रहे। वैगन में आग लगने की सूचना 101 से रेलवे कर्मचारियों ने फायर ब्रिग्रेड को दोपहर 12.54 बजे सूचना दी। सूचना के बाद फायर ब्रिग्रेड की टीम 1 बजे कोचिंग यार्ड के पास पहुंच गई। मौके पर रेलवे का एक कर्मचारी ही खड़ा था। फायर ब्रिग्रेड के कर्मचारियों ने ओएचई की करंट सप्लाई बंद करने कर्मचारी से कहा तो वह अधिकारियों को फोन करने लगा। अधिकारियों को फोन करने के बाद कर्मचारी 1.30 घंटे तक फायर ब्रिग्रेड को अन्य अधिकारियों के आने का आश्वासन देता रहा। फायर ब्रिग्रेड के कर्मचारी जब जाने को तैयार हुए तो लगभग 2.30 बजे ओएचई विभाग के कर्मचारी पहुंचे और करंट सप्लाई बंद होने के बाद आग बुझाने का काम शुरू हो सका।

फायर ब्रिग्रेड के कर्मचारियों ने जाने की बात कही तब जाकर पहुंचे जिम्मेदार अधिकारी
सूचना के बाद कोचिंग यार्ड के पास पहुंचे फायर ब्रिग्रेड के कर्मचारी डेढ़ घंटे तक अधिकारियों के आने का इंतजार करते रहे। रेलवे के जिम्मेदार अधिकारी जब नहीं पहुंचे तो अंत में फायर ब्रिग्रेड के जवानों ने जाने की बात कहीं तो कर्मचारी ने दुबारा अधिकारियों को फोन कर फायर ब्रिग्रेड के जाने की बात बताई तब जाकर अधिकारी व कर्मचारी मौैके पर पहुंचे और ओएचई तार से करंट की सप्लाई को बंद कर आग बुझाने का काम शुरू हुआ।

चार दिन पहले लगी थी आग
मौके मौजूद कर्मचारियों ने बताया कि कोयला बिजली संयत्र के लिए गेवरा कोल खदान चार दिन पहले निकला था। बिलासपुर पहुंचते पहुंचते पता चला की 4 वैगन में आग लगी हुई है। तो चारों वैगन को काट कर अलग कर दिया गया और कोचिंग यार्ड में पानी से आग बुझाने के बाद कोचिंग यार्ड की साइडिंग में चारों वैगन को रखा गया था। रविवार को दुबारा आग लगने की सूचना मिली थी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned