दो छात्राओं के बीच छिड़ा ऐसा विवाद के 4 साल बाद आया फैसला, अब एक गोल्ड मैडल के होंगे दो टुकड़े

विवाद के बाद यूनिवर्सिटी का फैसला, दोनों छात्राओं के मध्य बांटा जाएगा गोल्ड मेडल

By: Saurabh Tiwari

Published: 05 Sep 2019, 08:03 PM IST

बिलासपुर. अटल बिहारी वाजपेयी विवि में सत्र 2015-16 की बीकॉम फायनल की छात्रा के गोल्ड मेडल को चल रही रस्साकशी का समाधान विवि प्रबंधन ने बुधवार को निकाल लिया। विधिक राय व विवि प्रशासन ने आपसी सहमति से दोनों छात्राओं को गोल्ड मेडल दिए जाने पर सहमति जताई है। हालांकि छात्रा ताई शगुफ्ता विवि के इस फैसले से खास खुश नहीं नजर आईं पर दीक्षांत समारोह के पूर्व इस फैसले को उन्होंने स्वीकार करते हुए प्रसन्नता जताई है। बीकॅाम फायनल ईयर की छात्रा ताई शगुफ्ता व मोना के बीच गोल्ड मेडल किसे मिलेगा इस बात को लेकर पिछले कुछ दिनों से चर्चा का माहौल गर्म था। विवि के मेरिट लिस्ट में शगुफ्ता पहले स्थान पर थीं। लेकिन दूसरे स्थान पर रही छात्रा मोना पेशवानी द्वारा रिवैल्युएशन कराने व इसके बाद पहले नंबर पर आने के बाद शगुफ्ता ने विरोध जताया। विवि में आवेदन देकर मामले की जांच कराए जाने की मांग की गई।

मामला चार साल पुराना 2015-16 का
वैसे ये मामला चार साल पुराना सत्र 2015 -16 का है। बीकॉम फायनल ईयर का रिजल्ट जारी होने पर छात्रा ताई शगुफ्ता टॅाप पर आई थी। लेकिन दूसरे स्थान पर रही छात्रा मोना पेशवानी द्वारा कम से कम नंबर मिलने का हवाला देते हुए रि-वैल्युएशन की मांग की गई। इसमें उसके 33 नंबर बढ़ गए और वो पहले स्थान पर आ गई। अब इस लेकर विवि की उलझन बढ़ गई कि मेरिट लिस्ट में किसे पहले नंबर पर रखें। मामला उलझने पर लीगल ओपिनियन लेकर सुलझाने का प्रयास किया गया। अब दोनों छात्राएं संयुक्त रूप से पहले नंबर पर हैं।

Saurabh Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned