scriptHigh court strict on the cutting of trees at midnight for Parsa coal b | परसा कोल ब्लॉक के लिए आधी रात हुई पेड़ों की कटाई पर हाईकोर्ट सख्त, कहा- क्या पुनर्जीवित कर सकेंगे पेड़ों को | Patrika News

परसा कोल ब्लॉक के लिए आधी रात हुई पेड़ों की कटाई पर हाईकोर्ट सख्त, कहा- क्या पुनर्जीवित कर सकेंगे पेड़ों को

हाईकोर्ट ने परसा कोल ब्लॉक भूमि अधिग्रहण को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर गुरुवार को सुनवाई करते हुए आधी रात की गई पेड़ों की कटाई पर कड़ा रुख अपनाया। कोर्ट ने इस मुद्दे पर राज्य सरकार से रिपोर्ट तलब की, और कहा, क्या कटाई अवैध पाए जाने पर काटे गए पेड़ों को पुनर्जीवित कर पाएंगे। याचिकाकर्ता ने एक लाख से ज्यादा पेड़ों पर खतरा बताया है।

बिलासपुर

Published: April 28, 2022 07:27:11 pm

बिलासपुर। हाईकोर्ट ने परसा कोल ब्लॉक भूमि अधिग्रहण को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर गुरुवार को सुनवाई करते हुए आधी रात की गई पेड़ों की कटाई पर कड़ा रुख अपनाया। कोर्ट ने इस मुद्दे पर राज्य सरकार से रिपोर्ट तलब की, और कहा, क्या कटाई अवैध पाए जाने पर काटे गए पेड़ों को पुनर्जीवित कर पाएंगे। याचिकाकर्ता ने एक लाख से ज्यादा पेड़ों पर खतरा बताया है।
परसा कोल ब्लॉक के लिए आधी रात हुई पेड़ों की कटाई पर हाईकोर्ट सख्त, कहा- क्या पुनर्जीवित कर सकेंगे पेड़ों को
परसा कोल ब्लॉक के लिए आधी रात हुई पेड़ों की कटाई पर हाईकोर्ट सख्त, कहा- क्या पुनर्जीवित कर सकेंगे पेड़ों को
गौरतलब है कि याचिकाओं में लगाये गये स्टे आवेदन और संशोधन आवेदन पर आज बहस होनी थी। परंतु चीफ जस्टिस की खण्डपीठ, जहां सामान्य रूप से यह मामले सुने जाते हैं, के उपलब्ध न होने के कारण प्रकरण जस्टिस गौतम भादुड़ी और जस्टिस एन के चन्द्रवंशी की खण्डपीठ में सुनवाई के लिए भेजा गया।
कोल बेयरिंग एक्ट व सुप्रीम के प्रावधानों के उल्लंघन का आरोप

आज हुई सुनवाई में याचिकाकर्ताओं की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव श्रीवास्तव और अधिवक्ता सुदीप श्रीवास्तव ने पक्ष रखते हुये बताया कि वैसे तो याचिकाओं में कोल बेयरिंग एक्ट को भी चुनौती दी गई है परन्तु उस एक्त को संवैधानिक मानकर भी यदि चला जाए तो अधिग्रहित की गई जमीन किसी निजी कंपनी को खनन के लिये नहीं दी जा सकती। अधिवक्ताओं ने आगे बताया कि हस्तगत मामले में राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम के नाम पर भूमि अधिग्रहण कर अडानी की स्वामित्व वाली कंपनी राजस्थान कॉलरी को भूमि सौपी जा रही है। यह स्वयं कोल बेयरिंग एक्ट के प्रावधानों एवं सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये कोल ब्लॉक जजमेंट के विरुद्ध है अतः परसा कोल ब्लॉक से संबंधित कोई भी कार्य आगे नहीं बढ़ाया जा सकता। इस कारण पेड़ो की कटाई पर भी तुरंत रोक लगनी चाहिये।
कोर्ट ने कहा, पेड़ कटाई अवैध हुई तो क्या पुनर्जीवित कर पाएंगे

राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम और राजस्थान कॉलरी (अडानी) की ओर से बहस करते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता निर्मल शुक्ला ने कहा कि पेड़ों की कटाई कम्पनी ने नहीं वन विभाग ने की है और खदान को सभी तरह की वन पर्यावरण अनुमति प्राप्त है। इस स्तर पर खण्डपीठ ने यह पूछा कि यदि भूमि अधिग्रहण निजी कंपनी के हाथ जाने के कारण अवैध साबित होता है, तो इन कटे हुए पेड़ो को क्या पुर्नजीवित किया जा सकता है।
अधिग्रहण को चुनौती गंभीर विषय

खण्डपीठ ने कहा कि अधिग्रहण को दी गई चुनौती गम्भीर विषय है और इसके समाप्त होने पर वन्य एवं पर्यावरण अनुमतियां अपने आप प्रभावहीन हो जाएंगी। खण्डपीठ ने राज्य सरकार को पेड़ों की कटाई पर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश के साथ स्टे आवेदन पर अगली सुनवाई 4 मई तय की गई है। सुनवाई के दौरान अधिवक्ता सौरभ साहू रजनी सोरेन, सौम्या शर्मा, शैलेन्द्र शुक्ला, एच. एस अहुलवालिया आदि उपस्थित थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Lunar Eclipse 2022: सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण हो गया है शुरू, क्यों कहा जा रहा 'ब्लड मून', जानिए भारत से कैसे और कहां दिखेगापीएम मोदी आज बुद्ध की जन्म और निर्वाण स्थली पर माथा टेकेंगे, जानें आज पूरे दिन का कार्यक्रमयूपी के नए मंत्रियों को आज राजधानी में गुरूमंत्र देंगे पीएम मोदी, जानें कौन-कौन रहेगा मौजूदCongress Chintan Shivir 2022: उदयपुर से निकला कांग्रेस का नव संकल्प और नया नारा- भारत जोड़ोWeather Update: उत्तर भारत में और झुलसाएगी गर्मी, भीषण गर्मी और लू का अलर्ट जारीcongress chintan shivir 2022: आदिवासियों के गढ़ में आज राहुल गांधी भरेंगे हुंकार, वोट बैंक पर रहेगी नजरAAP ने किया केरल में गठबंधन का ऐलान, इस पार्टी के साथ मिलकर लड़ेगी चुनावIPL 2022 Point Table: लखनऊ को हरा दूसरे स्थान पर पहुंचा राजस्थान, चौथे स्थान के लिए चार टीमों में घमासान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.