हावड़ा अहमदाबाद एक्सप्रेस में कोरोना का संदिग्ध मरीज मिलने से हड़कम्प, ट्रेन को किया गया सेनेटाइज

coronavirus suspected: हावड़ा अहमदाबाद एक्सप्रेस (12834) के यात्रियों के बीच उस दौरान हडकम्च मच गया जब उसके बीच बैठे एक यात्री बुखार की हालत में ठंड की हालत में कपकपा रहा था।

By:

Published: 19 Mar 2020, 07:00 PM IST

बिलासपुर. हावड़ा अहमदाबाद एक्सप्रेस (12834) के यात्रियों के बीच उस दौरान हडकम्च मच गया जब उसके बीच बैठे एक यात्री बुखार की हालत में ठंड की हालत में कपकपा रहा था। यात्रियों ने उस यात्री से दूरी बना ली और टीटीई को तत्काल कोरोना से ग्रसित होने की बात कही गई। टीटीई ने फोन पर बिलासपुर कंट्रोल रूम को इसकी सूचना दी। सूचना के बाद संदिध को रायगढ़ रेलवे स्टेशन में उतार कर जिला चिकित्सालय में दाखिल कराया गया है। वही ट्रेन जब बिलासपुर पहुंची जिसे कोच में संदिग्ध बैठा था उसकी अच्छी तरह से सेनेटाइज्द कर रायपुर के लिए रवाना किया गया।

रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार कोलकत्ता निवासी व्यक्ति अहमदाबाद में काम करता है। वह बुधवार रात हावड़ा से अहमदाबाद आने के लिए हावड़ा अहमदाबाद एक्सप्रेस के एस-8 में सफर कर रहा था। झारसुगुड़ा पहुंचते पहुंचते यात्री की हालत बिगडऩे लगी और उसके हाथ पैर कापने लगे। कुछ यात्रियों ने देखा तो संदिग्ध को तेज बुखार था। कोरोना की संभावना को देखते हुए यात्रियों ने टीटीई को सूचित किया। झारसुगुड पहुंची तो संदिग्ध को मास्क पहनाकर आगे के लिए रवाना कर दिया गया। एसईसीआर के स्टाफ ने जार्च लेने के बाद जब एस-8 में पहुंचा तो यात्रियों ने उसे भी बताया कि संदिग्ध की हालत बिगड़ती जा रही है। जानकारी लगते ही टीटीई ने बिलासपुर कंट्रोलरूम को हावड़ा अहमदाबाद एक्सप्रेस में कोरोना का संदिग्ध मरीज होने की जानकारी दी। ट्रेन में कोरोना का संदिग्ध मरीज होने की जानकारी लगते ही एसईसीआर के अधिकारी सर्तक हो गए और संदिग्ध को रायगढ़ रेलवे स्टेशन में उतारा गया। संदिग्ध को सावधानी पूर्वक जिला चिकित्सालय में दाखिल कराया गया। वही ट्रेन को बिलासपुर के लिए रवाना किया गया। ट्रेन जब बिलासपुर पहुंची तब तक रेलवे के अधिकारी कोच को सेनेटाइज्द करने के लिए पूरी तैयारी के साथ पहुंच चुके थे। ट्रेन जैसे ही बिलासपुर रेलवे स्टेशन पहुंची, सफाई कर्मचारी ट्रेन में दाखिल हो गए और एस-8 के पूरे कोच को सेनेटाइज्द किया गया। गेट हेंडल से लेकर यात्रियों व उनके सामान में भी सेनेटाइज्द किया गया। ट्रेन सेनेटाइज्द होने के बाद रायपुर के लिए रवाना हो गई।

कोरोना की दहशत देखी गई यात्रियों में

ट्रेन को रायगढ़ से बिलासपुर पहुंचने में लगभग 3 घंटे का समय लगता है। मरीज को तो एहतियात के तौर पर ट्रेन से उतार लिया गया लेकिन अन्य यात्रियों की सुरक्षा को लेकर रेलवे के अधिकारी गंभीर नहीं दिखे, बिना सुरक्षा उपाय के ट्रेन में फिनाइल डालकर बिलासपुर भेज दिया गया। इन दो घंटो में यात्रियों को कोरोना वायरस के फैलने के भय से भयभीत होते रहे।

अहमदाबाद में सेलून से रायपुर रवाना हुए महाप्रबंधक

हवाड़ा अहमदाबाद एक्सप्रेस बिलासपुर के प्लेटफॉर्म नं. 4 पर आकर रूकी, ट्रेन के रुकते ही महाप्रबंधक गौतम बनर्जी के लिए ट्रेन के पीछे स्पेशल सेलून लगाया गया। ट्रेन के साथ महाप्रबंधक रायपुर के लिए रवाना हो गए।

साकेत रंजन एसईसीआर

संदिग्ध की पहचान झारसुगुड़ा में हो गई थी। उसके बाद भी उसे झारसुगुड़ा में नहीं उतारा गया ऐसा क्यो

उ. झारसुगुड़ा हमारे डिविजन में नहीं आता, झारसुगुड़ा में ऐसा क्यो किया गया इसके विषय में कहा नहीं जा सकता

2. रायगढ़ में मरीज को उतारा गया लेकिन सुरक्षा को लेकर कोच सेनेटाइज्द नहीं किया गया।

उ. सूचना मिलने के बाद मरीज को पूरी सूरक्षा के साथ हास्पिटलाइज किया गया है। सुरक्षा को लेकर रेलवे गंभीर है। बिलासपुर पहुंचने पर कोच को सेनेटाइज्द किया गया है।

जिस व्यक्ति को रायगढ़ में उतारा गया है उसे बुखार था कोरोना है या नहीं यह स्पष्ट नहीं कहा जा सकता, रेलवे अपने स्तर पर जितना हो सके सुरक्षा के उपाय ट्रेनों व स्टेशनों में कर रहा है।

साकेत रंजन सीपीआरओ बिलासपुर

coronavirus
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned