जिले 150 से अधिक पैथोलैब, गड़बड़ी की शिकायत के बाद जांच शुरू

सीएमएचओ डॉ प्रमोद महाजन के निर्देश पर नर्सिंग होम एक्ट की टीम द्वारा शहर में संचालित सभी पैथोलैब का निरीक्षण किया गया है। निरीक्षण के दौरान बिलासपुर में संचालित ऐसे पैथोलैब जहां पैथोलॉजिस्ट की उपस्थिति के बिना सेंटर संचालित हो रहे थे।

By: Karunakant Chaubey

Published: 30 Nov 2020, 06:53 PM IST

बिलासपुर. जिले में 150 से अधिक पैथोलैब हैं यहां बिना पैथोलॉजिस्ट के लैब का संचालन किया जा रहा है। अधिकांश लैब में गड़बड़ी की शिकायत मिल रही है। स्वास्थ्य विभाग ने सभी लैबों की जांच के लिए पांच सदस्यीय टीम गठित कर जांच की जा रही है। मुख्य चिकित्सा एंव स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रमोद महाजन को उनका कहना है कि 9 अवैध पैथोलैब को नोटिस दिया गया है। जांच में जो भी अवैध मिलेगा उसको नोटिस तामिल किया जा रहा है।

सीएमएचओ डॉ प्रमोद महाजन के निर्देश पर नर्सिंग होम एक्ट की टीम द्वारा शहर में संचालित सभी पैथोलैब का निरीक्षण किया गया है। निरीक्षण के दौरान बिलासपुर में संचालित ऐसे पैथोलैब जहां पैथोलॉजिस्ट की उपस्थिति के बिना सेंटर संचालित हो रहे थे।

उन पैथोलैब का संचालन नियमित पैथोलॉजिस्ट की उपस्थिति तक तत्काल प्रभाव से बंद कर दी है। ऐसे पैथोलॉजी लैब के संचालकों को नोटिस तामिल किया गया है। तथा इनके सेंटर पर पैथोलॉजिस्ट की सेवा नहीं देने की स्थिति में संचालन की अनुमति नहीं होने की नोटिस चस्पा कर दी गयी है।

अप्रशिक्षित कर रहे जांच, मरीजों को खतरा

जिले में संचालित कुछ अस्पताल व नîसग होम में भी पैथोलैब हैं। यहां आने वाले मरीजों को चिकित्सक जांच की सलाह देते हैं। लेकिन यह सभी जांच एक ही छत के नीचे हो जाती है। ऐसे के कुछ नर्सिंग होम व अस्पतालों में मरीजों की जांच अप्रशिक्षित लोगों के द्वारा की जा रही है।

जिले के पैथोलैब की जांच के लिए विभाग ने टीम बनाई है। ये सभी टीमें में पैथोलैब का निरीक्षण कर रही हैं। 9 से ज्यादा पैथोलैब को नोटिस दिया गया है।

-डॉ. प्रमोद महाजन, सीएमएचओ

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned