कोरोना की मार झेलने के बाद जांच पर कारोबारियों ने भृकुटी तानी, नापतौल विभाग का जांच अभियान बंद

नापतौल विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों के दल ने शहर के मिठाई दुकानों, सराफा दुकानों और बर्तन दुकानों में नापतौल माप को लेकर तीन नंवबर से जांच अभियान शुरू किया। करीब दस दिनों तक विभिन्न दुकानों में जांच अभियान चलाया गया।

By: Karunakant Chaubey

Published: 13 Nov 2020, 06:03 PM IST

बिलासपुर. दीपावली पर्व को लेकर छोटे-बडे़ व्यापारियों में व्यवसाय को लेकर आस जगी। इसी बीच नापतौल विभाग के अधिकारियों का जांच अभियान शुरू हो गया। इससे कोरोना की मार झेल रहे कारोबारियों ने जांच करने पहुंचने वाली टीम के सदस्यों को लेकर आंखें तरेरना शुरू कर दिया। इसके बाद जांच अभियान का कार्य गुरुवार से बंद कर दिया गया है।

नापतौल विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों के दल ने शहर के मिठाई दुकानों, सराफा दुकानों और बर्तन दुकानों में नापतौल माप को लेकर तीन नंवबर से जांच अभियान शुरू किया। करीब दस दिनों तक विभिन्न दुकानों में जांच अभियान चलाया गया।

ऐसे किसान नहीं बेच पायेंगे धान, कार्ड दुरुस्त करने की अवधि 17 तक बढ़ाई गई

इस दौरान छोटे -बडे़ व्यापारियों ने नापतौल विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों के खिलाफ जांच के दौरान नाराजगी और आक्रोश व्यक्त किया। हालांकि कई दुकानों के संचालकों के खिलाफ जांच टीम ने नापतौल और पैकेज नियमों का उल्लंघन का दोषी पाने पर प्रकरण दर्ज किया।

आक्रोश भांप जांच बंद

कोरोना काल में लघु, मध्यम समेत सभी कारोबार पूरी तरह से ठप पड़ गया था। दुकानें खोलने की छूट मिलने के बाद व्यापारियों में कारोबार बढऩे की उम्मीद जगी। इसी बीच जांच अभियान शुरू हो गया। इसके बाद कारोबारियों में जांच को लेकर आक्रोश पनपने लगा। यह नाराजगी विकराल रूप धारण न कर ले इस नजाकत को भांपकर नापतौल अधिकारियों ने गुरुवार से दुकानों की जांच का काम बंद कर दिया है।

जांच अभियान बंद

शहर के विभिन्न दुकानों में नापतौल जांच का अभियान करीब दस दिनों तक चलाया गया। कारोबारियों की नाराजगी के चलते गुरुवार से जांच बंद कर दिया गया है।

-एसके देवांगन, एसी, नापतौल,बिलासपुर

ये भी पढ़ें: 1651 लोगों में हुई कोरोना संक्रमण की पहचान, रिकवरी रेट 88.4 प्रतिशत

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned