बिल्डर ने लोगों को समझौते के लिए बुलाया कांगे्रसियों ने जकांछ नेता का सिर फोड़ दिया

Amil Shrivas

Publish: Oct, 13 2017 11:32:27 (IST)

Bilaspur, Chhattisgarh, India
बिल्डर ने लोगों को समझौते के लिए बुलाया कांगे्रसियों ने जकांछ नेता का सिर फोड़ दिया

तीन चार साल बाद भी ना तो फ्लैट मिला और ना ही प्लाट।

बिलासपुर. अधिराज बिल्डर द्वारा लोगों से पैसे लेकर उन्हें प्लाट व फ्लैट न देने के विवाद का निपटारा कराने के लिए सभी नियोक्ता व कंपनी प्रतिनिधि व्यापार विहार स्थित त्रिवेणी भवन पहुंचे थे, जहां पर जनता कांगे्रस छत्तीसगढ़ जे के नेता और कांग्रेस नेता अकबर खान के बीच विवाद हो गया, जिसमें जोगी कांग्रेस के जिला प्रवक्ता विक्रांत तिवारी पर हमला कर उसे घायल कर दिया। विवाद के बाद वहां पर भगदड़ की स्थिति बन गई। कंपनी के नियोक्ताओं ने कंपनी के खिलाफ तारबाहर थाने में जाकर वहां बिल्डर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। वहीं विक्रांत तिवारी की शिकायत पर सिविल लाइन पुलिस ने अकबर खान सहित उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। दरअसल अधिराज बिल्डर द्वारा बिलासपुर में विभिन्न स्थानों पर लोगों को प्लाट और फ्लैट देने के लिए उनसे एडवांस लिया। लेकिन तय समय पर बिल्डर्स ने नियोक्ताओं को न तो फ्लैट दिए और न ही प्लाट दिए। अधिराज बिल्डर ने सस्ते दामों में प्रदेश के प्रमुख शहरों में प्लाट और फ्लैट देने का एग्रीमेंट किया था। रजिस्ट्री के बाद कुछ लोगों ने आधे तो कुछ ने पूरे रुपए दिए। तीन चार साल बाद भी ना तो फ्लैट मिला और ना ही प्लाट।

READ MORE : 24 मेडिकल स्टोर हुए सील, हड़बड़ाया जिला औषधि संघ पहुंचा कलेक्टोरेट

गुरुवार को एक नोटिस पर बिलासपुर संभाग के प्रभावित लोगों को अधिराज बिल्डर की तरफ से समझौते के लिए त्रिवेणी भवन बुलाया गया था, लेकिन अधिराज बिल्डर के चार पांच मालिकों में से कोई नहीं पहुंचा। अधिराज बिल्डर के समर्थन में समझौता के लिए दबाव डाला जाने लगा। इसी बीच लोगों के आक्रोश को देखते हुए बिल्डर्स को अकबर खान व उसके साथ गाड़ी में बैठकर वहां से ले जाने लगे। जिस पर जनता कांगे्रस छत्तीसगढ़ जे के विक्रांत तिवारी ने जब उन्हें रोकना चाहा तो अकबर खान व उसके साथ आए करीब एक दर्जन युवकों ने उस पर हमला कर दिया। जिससे उसके सिर में गंभीर चोट आई। मारपीट के बाद आरोपी वहां से फरार हो गए। त्रिवेणी भवन में जुटे सभी नियोक्ता तारबाहर थाने पहुंचे और उन्होंने बिल्डर्स के खिलाफ धोखाधड़ी की लिखित शिकायत की। तारबाहर पुलिस ने विक्रांत तिवारी की शिकायत पर आरोपी कांग्रेस नेता अकबर खान समेत साथी अतीक खान, वसीम खान और दानिश खान सहित 7-8लोगों पर धारा 147, 323, 294, 506, 327 सहित अन्य धाराओं के तहत मामला कायम कर लिया है।

READ MORE : पालकों ने बर्जेश स्कूल के खिलाफ खोला मोर्चा, मनमाने फीस वृद्धि का लगाया आरोप

सैकड़ों लोगों से ठगी: लोगों ने बताया कि अधिराज बिल्डर की तरफ से पत्र भेजा गया। जिन लोगों का अधिराज बिल्डर से फ्लैट और प्लाट के लिए एग्रीेमेंट हुआ है। उनके साथ समझौता किया जाएगा। सभी लोग बिलासपुर स्थित त्रिवेणी व्यापार विहार पहुंचे। करीब 400 लोग पहुंचे, वहां केवल एक वकील और ट्रिब्यूनल जस्टिस मारकन्डेय ही दिखाई दिए।
60 करोड़ की हुई ठगी : अधिराज बिल्डर ने सभी से 15 से 35 लाख रुपए लिए हंै, लेकिन किसी को न तो फ्लैट दिया गया और न ही प्लाट। मामले को लेकर कई बार विरोध किया गया। हर बार आज कल की बात कह कर लोगों को टालता रहा। मामला मुम्बई ट्रिब्यूनल तक पहुंचा। ट्रिब्यूनल में अधिराज बिल्डर के मालिकों ने बताया कि 20 करोड़ का एग्रीमेंट हुआ है। समझौते के बाद लौटा दिया जाएगा। लोगों ने कहा कम्पनी ने उनसे करीब 60 से 80 करोड़ की ठगी की है। लोगों ने वकील व जस्टिस से अधिराज बिल्डर से रुपए लौटाए जाने की मांग की।

READ MORE : राजा रघुराज सिंह स्टेडियम लेगा अंतरराष्ट्रीय ग्राउंड का रुप

इस बीच लोगों की वकील और जस्टिस से जमकर बहस हुई। इसी दौरान अकबर खान और उनके समर्थकों ने लोगों को धक्का देकर भगाने का प्रयास किया। जोगी कांग्रेस जिला प्रवक्ता विक्रांत तिवारी से अकबर खान के बीच विवाद होने लगा और बात मारपीट तक पहुंच गई देखते ही देखते लोगों में भगदड़ मच गई। इसके बाद सभी लोग तारबाहर पहुंचकर थाना पहुंचकर अधिराज बिल्डर की लिखित शिकायत की है।
छत्तीसगढ़ सहित मध्यप्रदेश के लोग पहुंचे : त्रिवेणी भवन में रखे गए समझौता में रायगढ़,कोरबा, रायपुर, बिलासपुर समेत मध्यप्रदेश के अनूपपुर और शहडोल जिले से लोग पहुंचे। सभी ने संचालकों को सामने आने को कहा। वकील और पूर्व जस्टिस मारकण्डेय ने बताया कि ट्रिब्यूनल में सुनवाई हो चुकी है। हम लोग समझौता करने आए हैं। वकील दाण्डेकर ने तारबाहर थाना प्रभारी को बताया कि अधिराज बिल्डर के पांच संचालक हैं। संचालक मण्डल में जितेन्द्र भाटिया, जयंति भाटिया, संतोष श्रीवास्तव, आलोक और संदीप वाडोडकर का नाम हैं। फिलहाल अभी वह बाहर गए हैं। जबकि प्रभावित लोगोंं ने बताया कि पांच संचालक मंडल फरार हैं। सभी लोग बिलासपुर और रायपुर में छिपे हैं।

READ MORE : मृतका की शिकायत आवेदन पर कार्रवाई के बजाए मांगे 5 गवाह, सीयू का मामला

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned