क्षत्रीय समाज ने रैली निकालकर सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा ज्ञापन, कहा बंद हो आरक्षण

क्षत्रीय समाज ने रैली निकालकर सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा ज्ञापन, कहा बंद हो आरक्षण

Amil Shrivas | Publish: Sep, 07 2018 04:54:13 PM (IST) Bilaspur, Chhattisgarh, India

विरोध

बिलासपुर. सवर्ण समाज के विभिन्न संगठनों द्वारा 6 सितंबर को घोषित भारत बंद का कोई खास असर बिलासपुर में नहीं रहा। दुकानें खुली रहीं, पेट्रोल पंप भी चालू थे। हालाकि क्षत्रिय समाज के विभिन्न संगठनों ने अपने-अपने स्तर से एससी/एसटी एक्ट का विरोध किया। शहर के मुख्य मार्गों से रैली निकाली गई और एससी/एसटी एक्ट के विरोध में सर्व समाज के प्रतिनिधियों ने सिटी मजिस्ट्रेट एआर टंडन को ज्ञापन सौंपा। एक्ट का विरोध कर रहे लोगों ने सरकार से एससी/एसटी एक्ट वापिस लेने की मांग की। हम चेतना नव युवक समाज के सदस्यों ने शहर में रैली निकालकर दुकानदारों से प्रतिष्ठानें बंद रखने की अपील की। इस मौके पर संतोष गर्ग, नवीन तिवारी, आलोक शर्मा, संदीप बाजपेयी, शशंाक मिश्रा, पीयूष वर्मा, अरुण तिवारी, अभिनव तिवारी, दीपक कौशिक, शांति मजूमदार, सोमी कश्यप, मनीष निर्मलकर, केदार ठाकुर, राहुल सिंह, रोहित, आनंद पांडे, प्रकाश, अमित ठाकरे, सूरज, अनिमेष आदि शामिल रहे।

आर्थिक आधार पर हो आरक्षण-शुक्ला
नवयुवक कान्य कुब्ज विकास समिति अध्यक्ष राम प्रसाद शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में एससी/एसटी एक्ट अंग्रेजों के समय लाए गए रोलेट एक्ट से कम नहीं है। देश को जाति में बांटकर देश की पार्टियां सत्ता हथियाना चाहती हैं। आरक्षण जाति आधारित नहीं, बल्कि आर्थिक आधार पर मिलना चाहिए। किसी भी विवाद में हमें अपना पक्ष रखने का अवसर मिलना ही चाहिए, यह हमारा मौलिक अधिकार है। उन्होंने कहा कि आज सभी राजनैतिक दल सत्ता के लोभ में हमसे यह अधिकार छीन रहे हैं।

Prev Page 1 of 2 Next
Ad Block is Banned