पीएनबी बैंक का मैनेजर गिरफ्तार, लोन घोटाले में था शामिल

Loan scam in Bilaspur: 60 लोगों को चूना लगाने वाले जालसाज भौमिक का साथ देने के आरोप में बैंक मैनेजर(bank manager) की गिरफ़्तारी हुई (arrested)

By: Murari Soni

Published: 07 Jul 2019, 12:10 PM IST

बिलासपुर. बैंकों से लोन दिलाने का झांसा देकर 60 लोगों से करोड़ों की ठगी(Loan scam)करने वाले जालसाज विश्वजीत भौमिक का साथ देने वाले व्यापार विहार पीएनबी शाखा के तत्कालीन मैनेजर(bank manager)को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार (arrested)किया। आरोपी को कोर्ट के आदेश पर जेल भेज दिया गया है।
सिरगिट्टी पुलिस के अनुसार जांजगीर-चांपा जिले के ग्राम कोटमीसोनार निवासी किशोर साहू पिता उमेन्द्र राम साहू ( 39) सिरगिट्टी में किराये के मकान में रहते हैं। सन 2012 में उसे रामा वैली निवासी विश्वजीत भैमिक ने अपनी कंपनी एबी फासनर फैक्ट्री में उन्हें सुपरवाइजर की नौकरी पर रखा था।

कंपनी बंद होने पर किशोर माइक्रो फाइनेंस कंपनी में काम करने लगा था। सन 2015 में विश्वजीत भौमिक ने उससे फिर से मुलाकात की। उसने किशोर को बताया कि वह एबी फोरजिंग कंपनी शुरू की है, जिसमें उसे पार्टनर बनाना चाहता है। उसके नाम पर पीएनबी व्यापार विहार शाखा में खाता खोलने और रकम जमा करने व निकलने की बात कही। उसकी बातों में आकर किशोर ने उसे खाता खुलवाने की अनुमति दे दी।

 

विश्वजीत ने धोखे से किशोर से बैंक के लोन के दस्तावेजों और कोरे चेकों में हस्ताक्षर करा लिए थे। किशोर के हस्ताक्षरित दस्तावेजों के आधार पर विश्वजीत ने बैंक के तत्कालीन मैनेजर राजेश कुमार शर्मा पिता बाबूराम शर्मा (58 ) के सांठगांठ कर 28 मार्च 2016 को 8 लाख 94 हजार रुपए व 5 अगस्त 2017 को 8 लाख 95 हजार रुपए का लोन निकलवाया था।

लोन की रकम को विश्वजीत ने बैंक मैनेजर से सांठगांठ कर अपने खाते में कोरे चेक के माध्यम से जमा कराए थे। बैंक से लोन की किश्त जमा नहीं होने पर भेजे गए नोटिस से किशोर को इसकी जानकारी हुई थी। शिकायत पर पुलिस ने आरोप विश्वजीत व बैंक मैनेजर के खिलाफ धारा 420 के तहत अपराध दर्ज किया था। पुलिस ने आरोपी राजेश शर्मा को आरके नगर स्थित उसके मकान से गिरफ्तार किया।
मशीन खरीदने के नाम पर निकाला था लोन
जांच मे यह बात सामने आई थी कि विश्वजीत ने अपनी नई फैक्ट्री एबी फोरजिंग कंपनी में किशोर को पार्टनर बनाया था। साथ ही उसके हस्ताक्षरित दस्तावेजों के जरिए मशीन खरीदने के नाम पर लोन के लिए आवेदन किया था। विश्वजीत फैक्ट्री के पार्टनरों में शामिल नहीं था। उसने किशार और अन्य व्यक्तियों को कंपनी का मालिक बताकर लोन की रकम निकलवाई थी।

read more- 28 साल बाद मिला न्याय, माथे से कलंक भी हटा लेकिन खुशी मनाने के लिए फरियादी जिंदा नहीं है

मैनेजर ने की थी गलती
मशीन खरीदने के लिए विश्वजीत ने लोन में खुद को मशीन बेचने वाला बताया था। लोन आवेदन किशोर के नाम पर था। मशीन खरीदी के लिए नियमानुसार मशीन का कोटेशन लोन आवेदन के साथ जमा किया जाना था। लोन आवेदन पर मौके का मुआयना कर रिपोर्ट बनाने से लेकर अन्य दस्तावेज बैंक मैनेजर द्वारा पूरे किए जाने थे। लोन आवेदन में नियमानुसार दस्तावेज नहीं लगाए औ लोन किशोर के नाम पर स्वीकृत कर दिया। यहां पर मैनेजर ने गलती कर दी।
इसी आधार पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया।
विश्वजीत भौमिक के खिलाफ 10 लाख की धोखाधड़ी का एक और मामला, एसपी से शिकायत
बिलासपुर ञ्च पत्रिका. धोखाधड़ी के मामले में फरार चल रहे विश्वजीत भौमिक के खिलाफ 10 लाख की धोखाधड़ी का एक और प्रकरण सामने आया है। सचिंद्रनाथ रात्रे उम्र 30 वर्ष, ग्राम कुंआ चरौंधा जिला बिलासपुर निवासी ने एसपी को आवेदन देकर भौमिक के खिलाफ 10 लाख की धोखाधड़ी किए जाने की शिकायत की है। रात्रे ने आवेदन में बताया है कि वो विद्यानगर स्थित तिरुपति ट्रैवल्स में काम करता है, जिसके संचालक मनीष बख्शी हैं। ट्रैवल्स संबंधी काम के लिए भौमिक अक्सर उनके आफिस आया करता था। चर्चा के दौरान अच्छा काम दिलाने का भरोसा दिया और मिलने को कहा। तीन-चार मुलाकातों के बाद उन्हेंने कुछ कोरे कागज व चेक पर हस्ताक्षर करा लिया, कहा इसकी जरूरत पड़ सकती है। भरोसे में उसने साइन कर दिया, कुछ दिनों बाद मिला तो कहा, अभी कुछ अच्छा काम नहीं दिख रहा है। बताउंगा, बाद में काम देने से मुकर गए।
जून 2019 में भौमिक के खिलाफ गबन संबंधी खबरें प्रकाशित होने पर संचालक मनीष बख्शी से इस संबंध में चर्चा की। फिर कोरे कागज और चेक का ख्याल आया। इस मामले में जब पीएनबी की सदर बाजार शाखा में पता लगाया तो, बताया गया कि तुम्हारे नाम से सचिन बिल्डकान नामक फर्म बनाकर 24 मई 2016 को 10 लाख का लोन पास कराया गया है। रात्रे ने अपने को अनुसूचित जाति का बताते हुए एसपी से इस संबंध में आवश्यक कार्यवाही किए जाने की मांग की है।

Show More
Murari Soni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned