40 साल की महिला ने 62 साल के बुजुर्ग से रचाई शादी, जब पति नहीं कर पा रहा था खुश तो पत्नी ने गला घोट कर दी हत्या

प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या कर उसे स्वभाविक मौत साबित कर अंतिम संस्कार करने की तैयारी कर रही पत्नी को पुलिस ने संदेह के आधार पर हिरासत में लिया।

By: Ashish Gupta

Published: 03 Sep 2021, 11:01 AM IST

बिलासपुर. प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या कर उसे स्वभाविक मौत साबित कर अंतिम संस्कार करने की तैयारी कर रही पत्नी को पुलिस ने संदेह के आधार पर हिरासत में लिया। पुलिस को पड़ोसियों ने बताया की मृतक की मौत का कारण जो उनकी पत्नी बता रही है वह संदेहास्पद है। पड़ोसियों की शिकायत पर पुलिस ने जब शव का पोस्टमार्टम कराया तो हत्या का खुलासा हो गया। पुलिस पत्नी व उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर मामले की जांच कर रही है।

मामले का खुलासा करते हुए एडिशनल एसपी उमेश कश्यप ने बताया कि पुलिस को कोरियापारा तिफरा निवासी बलराम सिंह पिता तिलक सिंह ठाकुर (62) के संदिग्ध मौत की जानकारी पुलिस को पड़ोसियों से मिली। सूचना के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच कर पंचनामा किया तो पुलिस को हत्या से संंबंधित कोई भी सुराग हाथ नहीं लगा। पड़ोसियों की शंका पर पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया तो हत्या की पुष्टि हो गई। हत्या की पुष्टि होने के बाद पुलिस ने जब सावित्री पति बलराम सिंह ठाकुर (35) से पूछताछ की तो वह पुलिस को लगातार गुमराह करती रही।

बाद में सख्ती बरतने पर सावित्री ने पति की हत्या अपने प्रेमी नारायण खांडे (36) निवासी मेलवापारा रतनपुर के साथ मिलकर करना स्वीकर कर लिया। पुलिस ने आटो चालक नारायण की तलाश शुरू की तो वह नया बस स्टैण्ड में भागने के लिए बस का इंतजार कर रहा था। नारायण को गिरफ्तार कर पुलिस ने हत्या का खुलासा किया।

8 साल से था अवैध संबंध
पुलिस ने मामले का खुलासा कर बताया कि अपने से 20 साल बड़े व्यक्ति से शादी करने के बाद कुछ दिनों तक तो ठीक चलता रहा। उम्र होने के साथ ही बलराम सावित्री की इच्छापूर्ति नहीं कर पा रहा था। अपनी इच्छा पूरी करने के लिए सावित्री ने नारायण खांडे से अवैध संबंध बना लिया। नारायण सावित्री के ही घर पर रहता था व दोनों के बीच अवैध संबंध बनता था। बलराम वृद्ध होने के कारण दोनों की रंगरलिया बर्दाश्त नहीं कर पा रहा था, इस कारण दोनों से अक्सर विवाद होता था। दोनों ने रोज-रोज के विवाद को खत्म करने के लिए रस्सी से गला दबाकर हत्या कर दी।

62 वर्षीय वृद्ध होने से कोई नहीं करेगा शंका ऐसा दोनों ने सोचा था
सावित्री व नारायण दोनों ने यह सोचा की बलराम 62 वर्ष का है अगर उसकी हत्या कर मौत को स्वाभाविक बताया जाए तो किसी तो उन पर शंका नहीं होगी व बलराम भी रास्ते से हट जाएगा। लेकिन पड़ोसियों ने पूरा खेल बिगाड़ दिया, क्योंकि नारायण व सावित्री के अवैध रिश्तों से पूरा मोहल्ला परेशान रहता था।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned