यंगस्टर्स हर रोज़ करते हैं ये काम जिससे होता है माइग्रेन, अगर बचना है तो हो जाएं सावधान

यंगस्टर्स हर रोज़ करते हैं ये काम जिससे होता है माइग्रेन, अगर बचना है तो हो जाएं सावधान

Anil Kumar Srivas | Publish: Mar, 17 2019 06:43:32 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

न्यूरोलॉजी एवं इंटरवेंशन कैंप में डॉ. राहुल पाठक ने बताया

बिलासपुर. पत्रिका और रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल के संयुक्त तत्वावधान में न्यूरोलॉजी एवं इंटरवेंशन कैंप की शुरुआत 16 मार्च से हो गई है, जो 23 मार्च तक चलेगी। कैंप में न्यूरोलॉजी से रिलेटेड जानकारी दी जा रही है, साथ ही चेकअप और इलाज भी किया जा रहा है। इसमें डॉक्टर राहुल पाठक एमडी, डीएम, एफआईएनएस (इंटरवेंशनल न्यूरोलॉजिस्ट) शहरवासियों की न्यूरो से संबंधित समस्याओं का समाधान कर रहे हैं। इस दौरान हमने डॉ. पाठक से न्यूरो से रिलेटेड बातचीत की। अपॉइंटमेंट के लिए 0771-3003300/01/02, टोलफ्री नंबर 1800-943-0000, एमरजेंसी- 9755095108 पर कॉन्टेक्ट करें।

रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल में बिना चीरफाड़ के इलाज
डॉ. पाठक ने बताया कि रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल में न्यूरो से जुड़ी समस्याओं का एडवांस टेक्नोलॉजी से इलाज किया जा रहा है। पैरालिसिस का इलाज बिना चीरफाड़ के किया जा रहा है। पैर की नसों से ब्रेन के भीतर जमे क्लॉट को निकाल रहे हैं। लकवा होने के शुरू के आठ से 10 घंटे के भीतर ब्रेन से इसे निकाल दिया जाता है। जो कि यहां पहले नहीं हो रहा था। इतना ही नहीं लकवा पूरी तरह से ठीक हो, आगे न हो उसके लिए एंजियोप्लास्टी कराई जाती है। एक बार लकवा होने के बाद 25 से 30 प्रतिशत फिर से होने की आशंका होती है। एंजियोप्लास्टी से इसे पूरी तरह ठीक किया जाता है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned