आधा सावन बीत गया अभी तक नहीं लगी सावन की झड़ी, मानसून की सुस्ती से किसानों के माथे पर खिचीं चिंता की लकीरें

आधा सावन बीत गया अभी तक नहीं लगी सावन की झड़ी, मानसून की सुस्ती से किसानों के माथे पर खिचीं चिंता की लकीरें

Murari Soni | Updated: 02 Aug 2019, 01:53:59 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

No rains: आधा सावन बीतने और प्रदेश का पारंपरिक त्योहार हरेली के निपट जाने के बाद भी जिले में अबतक महज 400 मिमी की बारिश से किसानों में बेचैनी है।

बिलासपुर. आधा सावन(savan mahina)बीतने और प्रदेश का पारंपरिक त्योहार हरेली(hareli festival) के निपट जाने के बाद भी जिले में अबतक महज 400 मिमी की बारिश(chhattisgarh weather)से किसानों में बेचैनी (No rains)है। त्योहार के फीके निपटने की टीस तो है ही मानसून(monsoon) के इस तरह सूखे-सूखे निकलने पर उन्हें आखिरकार समझ नहीं आ रहा कि

इस विपदा की घड़ी में रोपा का काम शुरू करें या खेतों में बीज छिंटकर पौधे उगाएं। उधर मौसम विभाग के दावे की भी हवा निकल गई है। पूर्व में शत-प्रतिशत के करीब 96 प्रतिशत बारिश होने का पूर्वानुमान जताया गया था। इस लिहाज से जिले में 1150 से 1200 मिमी बारिश होनी है। इसके लिए जुलाई में 600 मिमी के करीब व अगस्त से सितंबर के पहले सप्ताह तक 550 से 600 मिमी बारिश की संभावनाएं जताई गई थी।

अब मानसून ब्रेक ने सब किए कराए पर पानी फेर दिया है। प्रदेश के 27 में से 18 जिलों में औसत से काफी कम बारिश(no rains) हुई है। अगर यही स्थिति रही जमीन की बची-खुची नमी भी आने वाले दिनों में समाप्त हो जाएगी। अगर इंद्रदेव ने जल्द कृपा नहीं की तो सूखे की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। इधर मौसम विभाग ने अब अगस्त में तीन सिस्टम बनने की संभाावना(weather update)जगाई है। इसके असर से अगले सप्ताह में भारी बारिश की संभावना(monsoon) जताई है। इधर बादल रोज उमड़-घुमड़ कर तेवर दिखा रहे हैं पर बिना बरसे ही जा रहे हैं।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned