शव जलाने के लिए अब टोकन लेने के बाद लगेगा नम्बर, मुक्तिधाम ने लागू किया नियम

कोरोना संक्रमितों की लगातार मौतें हो रही हैं। इसके अलावा सामान्य मौतें भी अधिक होने लगी है जिसके कारण मुक्तिधामों में शव जलाने के लिए शेड कम पड़ जा रहा है। पिछले दिनों शहर के सबसे बड़ा मुक्तिधाम में शेड के लिए विवाद हो गया था। इसके बाद से सरकण्डा मुक्तिधाम में टोकन सिस्टम लागू कर दिया है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 24 Sep 2020, 02:46 PM IST

बिलासपुर. कोरोना संक्रमितों के मौत के साथ साथ सामान्य मौतों का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। मुक्तिधाम में शव के दाह संस्कार के लिए शेड कम पड़ जा रहा है। शेड के लिए लोगों के बीच में विवाद भी हो जा रहा है जिसके कारण अब सरकण्डा मुक्तिधाम में टोकन सिस्टम लागू कर दिया है। मृतक के घर से एक व्यक्ति मुक्तिधाम पहुंचकर शेड बुक कराता है जिसको टोकन नम्बर दिया जाता है जिसमें शेड का नम्बर लिखा रहता है।

कोरोना संक्रमितों की लगातार मौतें हो रही हैं। इसके अलावा सामान्य मौतें भी अधिक होने लगी है जिसके कारण मुक्तिधामों में शव जलाने के लिए शेड कम पड़ जा रहा है। पिछले दिनों शहर के सबसे बड़ा मुक्तिधाम में शेड के लिए विवाद हो गया था। इसके बाद से सरकण्डा मुक्तिधाम में टोकन सिस्टम लागू कर दिया है।

पार्षद राजेश शुक्ला ने बताया पितर के दौरान से लगातार सामान्य बीमारी से मौत होने वालों का आंकड़ा एकाएक बढ़ गया है। पिछले कुछ दिनों से शव को जलाने के लिए शेड कम पड़ जा रहा है। एक व्यक्ति शेड के पास लकड़ी रखकर गया था और दूसरे ने उस शेड में शव को जला दिया जिसके कारण विवाद हो गया था।

इसलिए अब यहां टोकन सिस्टम लागू कर दिया गया है। मृतक के घर के एक व्यक्ति मुक्तिधाम के चौकीदार से नाम बताकर टोकन लेगा। टोकन में बकायदा शेड का नम्बर लिखा रहता है। उसके हिसाब से शेड में शव को जला सकता है।

शव बदलने के बाद टोकन सिस्टम लागू

तिफरा निवासी एक व्यक्ति के पिता के शव बदल गया उसके पिता के स्थान पर महिला का शव दे दिया गया था जिसका अंतिम भी कर दिया था। युवक ने सिम्स प्रबंधन के खिलाफ लिखित शिकायत भी की थी। इसके बाद से सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन ने बताया शव की पहचान करने के लिए टोकन सिस्टम शुरू किया है कोरोना से मरने वालों के शव के ऊपर एक कागज में मृतक का नाम, पिता का नाम गांव का नाम लिखा होता है जिसको मृतक के परिजन को दिखाया जाता हैं। मृतक के परिजन सहमति द्वारा दी जाती है कि यही शव उनका ही है इसके बाद शव को मुक्तिधाम भेजा जाता है।

कोरोना से बचने टोकन सिस्टम लागू

नगर निगम ने जन्म मृत्यु प्रणाम पत्र का शाखा एक कमरे की है। जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए लंबी लाइन लगाना शुरू हो गया सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा था जिसके कारण अब नगर निगम टोकन सिस्टम लागू कर दिया है। आवेदन जमा करने वाले को टोकन दे दिया जाता है। उसे तीन चार दिन बाद टोकन जमा करने के बाद प्रमाण पत्र उपलब्ध कराया जाता है।

मुक्तिधाम में शेड को लेकर लगातार विवाद हो रहा था। नगर निगम में जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र विभाग में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए टोकन सिस्टम लागू किया गया है।

-राजेश शुक्ला, चेयरमैन, स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned