शहर में 1000 से अधिक झुग्गी झोपड़ियों को हटाने की कवायद पर लगा विराम, नहीं कर पाए रहने की व्यवस्था

नगर निगम सीमा क्षेत्र में झुग्गी झोपडि़यों की लंबी फेहरिस्त है। नगर निगम की जमीन पर मकान बनाकर बरसों से लोग रह रहे हैं। इन झोपडि़यों को तोड़कर उसी स्थान पर लोगों को मकान बनाकर दिए जाने हैं। प्रधामंत्री आवास योजना के तहत बनाए जाने वाले मकानों को निगम खुद बनवाने के लिए रहने वालों को हैण्डओवर करेगा।

By: Karunakant Chaubey

Published: 28 Oct 2020, 05:55 PM IST

बिलासपुर. प्रधामंत्री आवास योजना के तहत शहर की झुग्गी झोपड़ी में रहने वालों को हटाने की कवायद पर विराम लग गया है। नगर निगम अधिकारियों ने झोपड़ी वालों को नोटिस जारी किया और भूल गए। अब उनके विस्थापन के लिए जगह और व्यवस्था नहीं होने के कारण झोपडि़यों को तोडऩे की कवायद फिलहाल रुक गई है। नगर निगम सीमा क्षेत्र में 1000 से अधिक झुग्गी झोपडि़यों को तोड़कर उसी जगह मकान बनाकर निगम को देना है।

नगर निगम सीमा क्षेत्र में झुग्गी झोपडि़यों की लंबी फेहरिस्त है। नगर निगम की जमीन पर मकान बनाकर बरसों से लोग रह रहे हैं। इन झोपडि़यों को तोड़कर उसी स्थान पर लोगों को मकान बनाकर दिए जाने हैं। प्रधामंत्री आवास योजना के तहत बनाए जाने वाले मकानों को निगम खुद बनवाने के लिए रहने वालों को हैण्डओवर करेगा। निगम अधिकारियों ने करीब 6 महीने पूर्व झुग्गी झोपडि़यों में रहने वालों को मकान खाली करने नोटिस जारी किया था ।

रेलवे व नगर निगम ने नहीं जलाया रावण, रिकार्ड टूटा

जिसमें कहा गया था कि वे मकान खाली कर दूसरी जगह व्यवस्था कर कुछ दिनों के लिए रहे। तब तक उनके मकान बनाकर उन्हें सौंप दिए जाएंगे, लेकिन झुग्गी झोपडि़यों में रहने वालों ने बताया था कि उनके पास दूसरी जगह जाकर रहने की कोई व्यवस्था नहीं है। लिहाजा निगम ही उनके लिए वैकल्पिक व्यवस्था करे। निगम अधिकारियों ने झोपडि़यों में रहने वालों को आश्वासन दिया था।

हर बार बदलती रही योजना, लेकिन नहीं हुआ निर्माण

सन 2010 में प्रदेश शासन ने झुग्गी झोपडि़यों में रहने वालों को उनकी जमीन पर मकान बनाकर देने राजीव आवास योजना शुरू की थी। इस योजना के तहत निगम अधिकारियों ने शहर की झुग्गी झोपडि़यों में रहने वालों का सर्वे कराया था, लेकिन योजना पर काम शुरू नहीं हुआ।

हार बार योजना बदलती रही, लेकिन काम नहीं हुआ। अब झुग्गी झोपडि़यों में रहने वालों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनाने के आदेश दिए गए हैं, लेकिन यह काम भी शुरू नहीं हो पाया है।

शहर के इन स्थानों में तोड़ी जानी है झुग्गियां

शहर के कुदुदंड स्थित पंप हाउस के आसपास 500 से अधिक झुग्गी झोपडि़यां हैं। इसके साथ ही तालापारा, मिनी बस्ती, मिनीमाता नगर आशा अभियान और चांटीडीह , चिंगराजपारा मे झुग्गी झोपडि़यां हैं। इन स्थानों पर योजना के तहत पहला चरण भी शुरू नहीं हुआ है।

दीपावली और अन्य त्योहारों के कारण झुग्गियों को तोडऩे की कार्रवाई नहीं की जा रही है। झोपडि़यों में रहने वालों के विस्थापन की व्यवस्था अब तक नहीं हुई है। व्यवस्था होने के बाद ही झोपडि़यां तोड़कर मकान बनाए जाएंगे।

-पीके पंचायती, प्रभारी, योजना प्रकोष्ठ

ये भी पढ़ें: जिले में थोक दुकानों में लगेंगे फुटकर प्याज काउंटर, कीमतों पर लगाम लगाने की कवायद

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned