साइबर मितान बनाने पुलिस के छूटे पसीने, ग्रामीण पुलिस को नहीं देना चाहते मोबाइल नंबर

- एसपी प्रशांत अग्रवाल ने ली अधिकारियों की बैठक, एनसीसी, एनएसएस, एसपीओ, एनजीओ संस्था के समाज सेवकों को दी जाएगी ट्रेनिंग

By: Bhupesh Tripathi

Published: 26 Aug 2020, 12:04 AM IST

बिलासपुर. साइबर अपराध से लोगों को जागरूक करने के लिए शनिवार को एसपी प्रशांत अग्रवाल ने साइबर मितान अभियान का शुभारंभ किया था। पुलिस ने साइबर मितान बनाने ग्रामीण क्षेत्रों के सक्रिय लोगों की तलाश की। अधिकांश गांवों में लोगों के पास स्मार्ट फोन नहीं थे तो कई लोगों ने पुलिस को अपना मोबाइल नंबर देना उचित नहीं समझा। एसपी ने रविवार को बैठक लेकर एनसीसी, एनएसएस, एसपीओ, एनजीओ संस्था के सामाज सेवकों को ट्रेनिंग देकर साइबर मितान बनाने के निर्देश दिए हैं।

जानकारी के अनुसार साइबर मितान बनाने के लिए जिले के प्रत्येक थाने के कर्मचारियों को २५-२५ लोगों साइबर क्राइम से बचने की ट्रेनिंग देने की जिम्मेदारी दी गई थी। ग्रामीण क्षेत्रों में पुलिस ने साइबर मितान बनाने लोगों की तलाश की। अधिकांश गांवों में लोगों के पास स्मार्ट फोन नहीं मिले। कई गावों के ग्रामीण पुलिस को अपना मोबाइल देने से इनकार कर दिया। साइबर मितान बनाने में आ रही परेशानियों की जानकारी कर्मचायिों ने थानेदारों को दी। थानेदारों ने इसकी सूचना अधिकारियों को दी।

सितंबर महीने के पहले सप्ताह से शुरू होना है अभियान
जानकारी के अनुसार सितंबर महीने के पहले सप्ताह से साइबर मितान बनाने का कार्यक्रम शुरू होगा। इस दौरान जिले के प्रत्येक पुलिस कर्मी को २५-२५ साइबर मितान पहले से बनाने है, जिन्हें साइबर क्राइम से बचने की पूरी जानकारी हो। ये साइबर मितान गांव-गांव जाकर लोगों से मिलकर वहां भी साइबर मितान बनाएंगे।

एसपी ने ली बैठक, सुनी समस्या, दिए निर्देश
एसपी प्रशांत अग्रवाल ने रविवार को बिलासा गुड़ी में पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों की बैठक ली। बैठक में थानेदारों और अधिकारियों ने साइबर मितान बनाने में आ रही परेशानियों की जानकारी दी। एसपी अग्रवाल ने साइबर मितान बनाने के लिए एनसीसी,एनएसएस, एनजीओ संस्थाओं से जुड़े सामाजिक कार्यकर्ता और एसपीओ को साइबर मितान बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इन लोगोंं के माध्यम से गांव में साइबर मितान बनाने का काम शुरू करना आसान होगा। साथ ही अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दिए गए कि जो व्यक्ति पुलिस को नंबर देने या साइबर मितान बनने में आनाकानी करे, उसे इस अभियान में साइबर मितान नहीं बनाया जाएगा।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned