बाहरी गिरोह का खौफ, सुबह 5 से 10 बजे तक पुलिस कर रही गश्त

चोरों को पकडऩे के लिए पुलिस ने नए तरीके से गश्त करने लगी है।

By: Amil Shrivas

Published: 18 Dec 2018, 01:28 PM IST

बिलासपुर. ठंड के मौसम में बाहरी राज्यों के चोर, लूट और डकैत गिरोह के सक्रिय होने की आशंका पर पुलिस ने रात्रि के बाद सुबह गश्त भी शुरू कर दी है। ग्रामीण क्षेत्रों के थानेदारों के साथ पुलिस कर्मियों को प्रतिदिन सुबह 5 से 10 बजे तक शहर में पेट्रोलिंग की जिम्मेदारी दी गई है। गश्त करने वालों को मार्निंग वॉक पर जाने वाली महिलाओं की सुरक्षा और पॉश कॉलोनियों में सूने मकानों के आसपास घूमने वाले संदिग्ध व्यक्तियों को पकडऩे के निर्देश दिए गए हैं। चोरों को पकडऩे के लिए पुलिस ने नए तरीके से गश्त करने लगी है।

पिछले कुछ वर्षों में ठंड के मौसम में बाहरी राज्यों के ठगी, लूट, डकैत और चोर गिरोह द्वारा शहर में वारदातों को अंजाम देने से सबक लेते हुए पुलिस ने इस बार गश्त को और चुस्त बनाने का प्रयास किया है। रात्रि में 12 बजे से सुबह 5 बजे तक तक शहर के थानों की पेट्रोलिग के अलावा अधिकारियों की सेक्टर, जोनल गश्त ड्यूटी लगाई जाती है। साथ ही पुलिस लाइन के आरक्षकों की भी गश्त ड्यूटी लगाई जा रही है। रात्रि गश्त के बाद सुबह 5 से 10 बजे तक शहर में फिर से गश्त करने लिए एक थानेदार समेत 20 आरक्षकों की ड्यूटी लगाई जा रही है। गश्त करने वाले ग्रामीण क्षेत्र के थानेदार और पुलिस कर्मियों को सुबह 5 घंटे शहर में मार्निग वॉक करने वाली महिलाओं से चेन स्नैचिंग और ठगी की वारदातों को अंजाम देने वाले गिरोह को पकडऩे के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही सुबह गश्त के दौरान शहर आसपास की पॉश कॉलोनियों में संदिग्ध रूप से घूमने वाले लोगों को भी पकडऩे के निर्देश दिए गए हैं।

5 बड़े गिरोह परिचित हैं जिले से : जिले में पिछले 8 सालों में पुलिस ने पारधी, नट, सांसी, कंजर समेत आधा दर्जन से अधिक लूट, डकैती और चोर गिरोह को पकड़ा है। आरोपियों ने अधिकांश वारदातें ठंड के मौसम में ही अंजाम दिया था। 5 बड़े गिरोह के सभी सदस्य बिलासपुर जिले के गली- कूचे और यहां के रहने वालों के दिनचर्या से वाकिफ हैं। यही कारण है कि पुलिस ने गिरोह के सक्रिय होने से पहले उन्हें पकडऩे का बंदोबस्त किया है।
प्रदेश की किसी जेल में नहीं हंै गिरोह के सदस्य : पिछले 2 साल में पुलिस ने दूसरे राज्य के चोरी व डकैत गिरोह को पकड़ कर जेल भेजा था। प्रदेश के सभी जिलों की पुलिस ने बाहरी गिरोह के सदस्यों को अलग-अलग समय में पकड़ा था। गिरोह के सभी सदस्य जेल भेज दिए गए थे। अब प्रदेश की सभी जेलों से गिरोह के सभी सदस्यों को जमानत मिल चुकी है और सभी बाहर हैं। ऐसे में पुलिस और अलर्ट हो गई है। जिले के संदिग्ध व्यक्ति दिखते ही पकडऩे के निर्देश पुलिस कर्मियों को दिए गए हैं।

4 पीसीआर को भी गश्त के आदेश : सुबह 5-10 बजे तक ग्रामीण क्षेत्र के थानेदार और पुलिस कर्मियों के अलावा शहर में दौडऩे वाली 4 पीसीआर वैन को भी गश्त के निर्देश दिए हैं। पीसीआर में ड्राइवर समेत 5 पुलिस कर्मियों को शहर के संवेदनशील इलाकों में गश्त करने के आदेश दिए गए हैं।
शहर में हैं एक दर्जन संवेदनशील क्षेत्र : मार्निंग वॉक के दौरान जिस स्थान पर ठगी और लूट की वारदातें अधिक हुई हैं , उन स्थानों को पुलिस ने संवेदनशील माना है, जिसमें आरके नगर, कपिल नगर, चांटीडीह मुख्य मार्ग, विनोबा नगर, विद्यानगर, उसलापुर मुख्य मार्ग, नर्मदा नगर, नेहरू नगर, वेयर हाउस रोड, कलेक्टोरेट मार्ग, सीपत रोड , और रेलवे कॉलोनी शामिल हैं। इन स्थानों पर मार्निंग वॉक करने वाली महिलाओं की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने के निर्देश गश्त करने वाले पुलिस कर्मियों को दिए गए हैं।
हॉटलों और लॉज की हो रही है चेकिंग: मार्निंग वॉक के दौरान महिलाओं से होने वाली घटनाओं को रोकने के लिए मार्निंग गश्त कराई जा रही है। अधिकारी और कर्मचारी लगातार गश्त कर रहे हैं। बाहरी राज्यों के आपराधिक गिराह के सक्रिय होने की आशंका पर हॉटलों और लॉज की चेकिंग की जा रही है।
अर्चना झा, एएसपी

Amil Shrivas
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned