लॉक डाउन के दरमियान जंगल में बढ़ी शिकारियों की चहलकदमी, 3 शिफ्ट में होगी गश्त बढ़ेगे अस्थाई बैरियर

बारनवा पारा इलाके में संदेहियों की फुटेज सीसीटीवी कैमरों में रिकार्ड होने के बाद वन विभाग के अधिकारियों ने कर्मचारियों को जंगल में गश्त बढ़ाने का निर्देश दिया है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 20 Jul 2020, 04:47 PM IST

रायपुर. कोरोना संक्रमण काल में प्रदेश के अभ्यारण्यों को वन विभाग के अधिकारियों ने बंद कर दिया है। अभ्यारण्य बंद होने के बावजूद प्रदेश के जंगलों में शिकारी और तस्कर सक्रिय है। ये आरोपी बेखौफ जंगलों में शिकार कर रहें है और वन्य प्राणियों के अवशेषों की तस्करी कर रहे है। बारनवा पारा इलाके में संदेहियों की फुटेज सीसीटीवी कैमरों में रिकार्ड होने के बाद वन विभाग के अधिकारियों ने कर्मचारियों को जंगल में गश्त बढ़ाने का निर्देश दिया है। जिन इलाको में संदेहियों का मूवमेंट दिखा है, वहां के कोर इलाको में रहने वाले ग्रामीणों को वनकर्मियों द्वारा मुखबिर बनाकर जानकारी ले रहे हैं और लगातार कार्रवाई करने के लिए अभियान चला रहे हैं।

तीन शिफ्टो में होगी गश्त

कोरोना संक्रमण के कारण वनकर्मियों ने अभ्यारण्यों में चौकसी कम कर दी थी। इस बात का फायदा शिकारी और तस्कर लोकल लोगों की मदद से एक्टिव हो गए थे। इस बात की जानकारी होने पर विभागीय अधिकारियों ने बीट में पदस्थ कर्मियों को चौबीस घंटे में तीन बार गश्त करने और उसका रिकार्ड बनाने का निर्देश दिया है। अभ्यारण्यों में पदस्थ अधिकारी रिकार्ड की जानकारी जुटाएंगे और वरिष्ठ अधिकारियों को मामलें से अवगत कराएंगे।

स्पेशल टीम तैनात करने की तैयारी

प्रदेश के अभ्यारण्यों और जंगलों में शिकार और तस्करी की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए विभागीय अधिकारियों ने स्पेशल टीम गठित करने का निर्देश दिया है। विभागीय सूत्रों की मानें तो जल्द ही इस संबंध में सर्कुलर राज्य सरकार या वन अधिकारियों द्वारा जारी किया जा सकता है। स्पेशल टीम किस तरह की होगी और उन्हें क्या-क्या सुविधा मुहैय्या कराई जाएगी, इसके लिए दूसरे राज्यों के वन विभाग की कार्यप्रणाली का अध्यन किया जा रहा है।

शिकारियों से मिले वन्य प्राणियों के अवशेष

प्रदेश के कई जिलों में पुलिस और वन विभाग की संयुक्त कार्रवाई में लगातार जीवित वन्य प्राणी और उनके अवशेष लगातार मिल रहे है। पिछले दिनों गरियाबंद और कांकेर पुलिस ने कार्रवाई करके शिकारियों को सलाखों के पीछे भेजा है। पिछले एक माह के अंदर दर्जनों शिकारी और वन्य प्राणियों के अवशेष प्रदेश में बरामद किए गए है। इन सभी घटनाओं का खुलासा होने के बाद वन विभाग के अधिकारियों ने अभ्यारण्यों और उससे लगी सीमाओं में जांच करने और सख्ती करने का निर्देश दिया है।

बारनवापारा के चारो कोनो और मुख्य सड़कों पर अस्थाई बैरियर बनाकर सख्ती की जा रही है। जिन इलाको संदेहियों का मूवमेंट दिखा है, वहां की जांच करके उन रास्तों को बंद किया गया है। बारनवापारा को बारबेड वायर से घेरा गया है।संदेहियों की जानकारी मिलते ही जांच करके कार्रवाई की जा रही है।

-अरुण कुमार पांडेय, एपीसीसीएफ, वाइल्ड लाइफ

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned