विश्व चैरिटी डे- व्यक्ति आंख से देख नहीं पाता, कान से सुन नहीं पाता, तो उसके लिए अरबों, खरबों रुपए भी मायने नहीं रखती

Murari Soni | Updated: 05 Sep 2019, 12:28:26 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

हैंड्स ग्रुप और पत्रिका के संयुक्त तत्वाधान में जन जागरुकता अभियान चलाया गया और लोगों को नेत्रदान व देहदान के लिए प्रेरित किया गया।

बिलासपुर. विश्व चैरिटी डे के अवसर पर हैंड्स गु्रप और पत्रिका के संयुक्त तत्वाधान में जन जागरुकता अभियान चलाया गया और लोगों को नेत्रदान व देहदान के लिए प्रेरित किया गया। सुबह-सुबह दीनदयाल उद्यान में हैंड्स गु्रप के सदस्य और पत्रिका की टीम पहुंची और लोगों ने भी इस पहल की सराहना कि।

हैंड्स गु्रप से अभिषेक विधानी, अविनाश आहूजा सहित दर्जनों सदस्यों ने कहा कि अभी तक हमारे गु्रप द्वारा 250 से अधिक लोगों को नेत्रदान के लिए प्रेरित किया गया और उन्होंने अपनी आंखें जरुरत मंदों के लिए दान की हैं। गु्रप देहदान के लिए भी जागरुकता अभियान लगातार चलाता आ रहा है। इस मौके पर पत्रिका और हैंड्स गु्रप द्वारा संयुक्त रुप से कहा गया कि समाज के प्रत्येक वर्ग के लोग अंग दान व देहदान के लिए आगे आएं ताकि आपके इस दुनिया से जाने के बाद भी आप जीवित रहें और किसी दूसरे जरुरत मंद की आंखों से ये दुनिया देख सकें। यदि कोई व्यक्ति आंख से देख नहीं पाता, कान से सुन नहीं पाता, नाक से सूंख नहीं सकता और दिल धड़क नहीं पाता तो उसके लिए अरबों, खरबों रुपए भी मायने नहीं रखते हैं। यदि हम जीते जी अपने अंगों को दान कर जाते हैं तो हमारे मरने के बाद दूसरी की जिंदगी खुशियों से भर सकती है। देह दान कर हम अपने बच्चों को मेडीकल क्षेत्र में और अधिक प्रतिभाशाली बना सकते हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned