बिलासपुर के 1100 मजदूरों को लेकर अहमदाबाद से रवाना हुई श्रमिक स्पेशल ट्रैन

कलेक्टर व जिला प्रशासन के अधिकारियों की टीम ने ट्रेन आने से पहले किया डेमो

By:

Published: 10 May 2020, 08:37 PM IST

बिलासपुर. गुजरात में फंसे छत्तीसगढ़ के श्रमिकों की घर वापसी को लेकर चलने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन के चलने पर रेलवे अधिकारियों ने रविवार को मुहर लगा दी। ट्रेन सुबह 10 से 10.30 के बीच बिलासपुर रेलवे स्टेशन 1217 श्रमिको को लेकर ट्रेन बिलासपुर स्टेशन पहुंचेगी, इनमें से 11 सौ मजदूर बिलासपुर जिले के विभिन्न गांवों से है। कलेक्टर व जिला पंचायत की टीम सीईओ के साथ स्टेशन में ट्रेन आने के बाद होने वाली व्यवस्था की तैयारी का डेमो करते रहे।

रविवार सुबह 9 बजे से जिला प्रशासन व पुलिस अधिकारियों का दल लगभग 300 सौ की संख्या में रेलवे स्टेशन पहुंचा। रेलवे स्टेशन में बूथ के अनुसार व्यवस्था बनाने के लिए व श्रमिको को स्टेशन में उतरने, मेडिकल कक्ष जांच कराने व जांच के बाद थर्मल स्केनिंग व बस तक पहुंचाने के लिए विभिन्न दल तैयार किए गए है। सभी दल में एक मोनेटरिमंग अधिकारी नियुक्त किया गया है। जो दल को कंट्रोल करने के साथ ही उनकी सुरक्षा व सोशल डिस्टेसिंग को लेकर भी गाईडलाइन देता रहेगा। कलेक्टर संजय अलंग रविवार को दोपहर करीब 12 बजे रेलवे स्टेशन पहुंचे। कलेक्टर संजय अलंग ने जिला पंचायत सीईओ रितेश अग्रवाल, नगर निगम आयुक्त प्रभाकर पाण्डेय व अन्य अधिकारियों से रेलवे स्टेशन श्रमिकों के आने पर क्या-क्या व्यवस्था की जा रही है इसकी जानकारी लेते रहे
गेट 2 से 4 तक रहेगी बाहर निकलने की व्यवस्था
सुबह 10 बजे ट्रेन पहुंचने के बाद जीआरपी व आरपीएफ के साथ ही जिला पुलिस बल के जवान जिला पंचायत अधिकारियों के दिशा निर्देश पर व्यवस्था बनाने का काम करेंगे। श्रमिकों स्टेशन के बाहर बने बूथ तक एक एक कर लेजाने की व्यवस्था की है। गेट नं. 2, 3 व गेट नं 4 में दो निकासी द्वार का इस्तेमाल किया जाएगा।
वीआईपी यात्री प्रतिक्षालय बनाया गया मेडिकल कक्ष
जिला प्रशासन की मांग पर रेलवे ने दोनों वीपीआई फस्ट क्लास वेटिंग रूम को मेडिकल रूम में तबदील कर दिया है। ट्रेन से उतरने वाले मरीजों की जांच के बाद गेट में थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। उसके बाद जिला पंचायत द्वारा बनाए गए बूथ में यात्री को रखा जाएगा।
श्रमिक स्पेशल ट्रेन आने की कर्मफमेंशन रेलवे व मंत्रालय से मिल चुकी है। श्रमिक ट्रेन आने के बाद की व्यवस्था बनाने को लेकर सभी प्रशासनिक अधिकारी अपने-अपने स्तर पर दिए गए जिम्मेदारी को निभाने में लगे हुए है।
संजय अलंग कलेक्टर बिलासपुर

श्रमिक स्पेशल टे्रन के लिए जिला प्रशासन ने बूथ का निर्माण अलग-अलग स्तर पर किया गया है। ट्रेन पहुंचने के बाद से लेकर बस में बैठाने के लिए अलग-अलग टीम का गठन किया गया है। विभिन्न टीमों का गठन हुआ है प्रशासन स्तर पर श्रमिको को सुरक्षित उनके गांव तक पहुंचाने व्यवस्था की जा रही है।
रितेश अग्रवाल जिला पंचायत सीईओ बिलासपुर

नगर निगम ने श्रमिकों के रुकने के लिए डिटेंशन सेंटर बनाए है। जो विरोध कर रहे है उन्हें यह पता होना चाहिए की श्रमिक बस से आएगें डिटेंशन सेंटर में रहेंगे। कोई भी उनके या वह किसी के सम्पर्क नहीं आएगें।
प्रभारक पांडे, नगर निगम आयुक्त बिलासपुर
ट्रेन अहमदाबाद से निकल चुकी है रतलाम कटनी होते हुए बिलासपुर पहुंचेगी।
संतोष कुमार, सीनियर पीआरओ बिलासपुर जोन


बिलासपुर. गुजरात में फंसे छत्तीसगढ़ के श्रमिकों की घर वापसी को लेकर चलने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन के चलने पर रेलवे अधिकारियों ने रविवार को मुहर लगा दी। ट्रेन सुबह 10 से 10.30 के बीच बिलासपुर रेलवे स्टेशन 1217 श्रमिको को लेकर ट्रेन बिलासपुर स्टेशन पहुंचेगी, इनमें से 11 सौ मजदूर बिलासपुर जिले के विभिन्न गांवों से है। कलेक्टर व जिला पंचायत की टीम सीईओ के साथ स्टेशन में ट्रेन आने के बाद होने वाली व्यवस्था की तैयारी का डेमो करते रहे।

रविवार सुबह 9 बजे से जिला प्रशासन व पुलिस अधिकारियों का दल लगभग 300 सौ की संख्या में रेलवे स्टेशन पहुंचा। रेलवे स्टेशन में बूथ के अनुसार व्यवस्था बनाने के लिए व श्रमिको को स्टेशन में उतरने, मेडिकल कक्ष जांच कराने व जांच के बाद थर्मल स्केनिंग व बस तक पहुंचाने के लिए विभिन्न दल तैयार किए गए है। सभी दल में एक मोनेटरिमंग अधिकारी नियुक्त किया गया है। जो दल को कंट्रोल करने के साथ ही उनकी सुरक्षा व सोशल डिस्टेसिंग को लेकर भी गाईडलाइन देता रहेगा। कलेक्टर संजय अलंग रविवार को दोपहर करीब 12 बजे रेलवे स्टेशन पहुंचे। कलेक्टर संजय अलंग ने जिला पंचायत सीईओ रितेश अग्रवाल, नगर निगम आयुक्त प्रभाकर पाण्डेय व अन्य अधिकारियों से रेलवे स्टेशन श्रमिकों के आने पर क्या-क्या व्यवस्था की जा रही है इसकी जानकारी लेते रहे।
बाक्स---
गेट 2 से 4 तक रहेगी बाहर निकलने की व्यवस्था
सुबह 10 बजे ट्रेन पहुंचने के बाद जीआरपी व आरपीएफ के साथ ही जिला पुलिस बल के जवान जिला पंचायत अधिकारियों के दिशा निर्देश पर व्यवस्था बनाने का काम करेंगे। श्रमिकों स्टेशन के बाहर बने बूथ तक एक एक कर लेजाने की व्यवस्था की है। गेट नं. 2, 3 व गेट नं 4 में दो निकासी द्वार का इस्तेमाल किया जाएगा।
बाक्स--
वीआईपी यात्री प्रतिक्षालय बनाया गया मेडिकल कक्ष
जिला प्रशासन की मांग पर रेलवे ने दोनों वीपीआई फस्ट क्लास वेटिंग रूम को मेडिकल रूम में तबदील कर दिया है। ट्रेन से उतरने वाले मरीजों की जांच के बाद गेट में थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। उसके बाद जिला पंचायत द्वारा बनाए गए बूथ में यात्री को रखा जाएगा।
वर्जन...
श्रमिक स्पेशल ट्रेन आने की कर्मफमेंशन रेलवे व मंत्रालय से मिल चुकी है। श्रमिक ट्रेन आने के बाद की व्यवस्था बनाने को लेकर सभी प्रशासनिक अधिकारी अपने-अपने स्तर पर दिए गए जिम्मेदारी को निभाने में लगे हुए है।
संजय अलंग कलेक्टर बिलासपुर
वर्जन...
श्रमिक स्पेशल टे्रन के लिए जिला प्रशासन ने बूथ का निर्माण अलग-अलग स्तर पर किया गया है। ट्रेन पहुंचने के बाद से लेकर बस में बैठाने के लिए अलग-अलग टीम का गठन किया गया है। विभिन्न टीमों का गठन हुआ है प्रशासन स्तर पर श्रमिको को सुरक्षित उनके गांव तक पहुंचाने व्यवस्था की जा रही है।
रितेश अग्रवाल जिला पंचायत सीईओ बिलासपुर
वर्जन...
नगर निगम ने श्रमिकों के रुकने के लिए डिटेंशन सेंटर बनाए है। जो विरोध कर रहे है उन्हें यह पता होना चाहिए की श्रमिक बस से आएगें डिटेंशन सेंटर में रहेंगे। कोई भी उनके या वह किसी के सम्पर्क नहीं आएगें।
प्रभारक पांडे, नगर निगम आयुक्त बिलासपुर
वर्जन...
ट्रेन अहमदाबाद से निकल चुकी है रतलाम कटनी होते हुए बिलासपुर पहुंचेगी।
संतोष कुमार, सीनियर पीआरओ बिलासपुर जोन

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned