मजदूर के बच्चों का हुआ साई में चयन, देश में करेंगे शहर का नाम रोशन

मजदूर के बच्चों का हुआ साई में चयन, देश में करेंगे शहर का नाम रोशन

Murari Soni | Updated: 18 Jul 2019, 02:10:03 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

chhattisgarh sports authority of india: उचित मार्गदर्शन मिले तो झोपड़-पट्टी में रहने वाला भी आसमान से तारे तोड़ने की हिम्मत रखते हैं

बिलासपुर. योग्यता कभी माहौल का मोहताज नहीं होता। बस उन्हें सही राह दिखाने वाला होना चाहिए। जो अच्छे-बुरे की समझ और कड़ी मेहनत कराना सीखाना जानता हो। उचित मार्गदर्शन मिलने पर झोपड़-पट्टी में रहने वाला भी आसमान से तारे तोडऩे की हिम्मत रखता है। इसका जीता जागता उदाहरण हैं बिलासपुर कबड्डी संघ। जहां के 7 बच्चों का चयन भारतीय खेल प्राधिकरण(sports authority of india) (साई) में हुआ है।

यह अपने अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है। साई में पूरे देश से 32 बच्चों का चयन किया जाता है, जिसमें बिलासपुर से ही 7 बच्चे शामिल हैं। मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करने वालों ने कभी यह नहीं सोचा था कि उनके बच्चे भारत के राष्ट्रीय खेल कबड्डी में अपने हुनर का प्रदर्शन उनके परिवार सहित शहर का भी नाम रोशन करेंगे। जिला कबड्डी संघ के अध्यक्ष डॉ. बसंत अंचल ने बताया कि चिंगराजपारा स्थित अमरैया चौक के कबड्डी मैदान में प्रतिदिन सुबह-शाम बच्चों को कबड्डी का प्रशिक्षण दिया जाता है।

साथ ही बच्चों की पढ़ाई का खर्च संघ द्वारा सबके सहयोग से किया जाता है। पिछले दिनों महाराष्ट्र के पुणे में 'खेलो इंडिया खेलो का आयोजन किया गया था। जिसमें बिलासपुर से बालक वर्ग से उमेश सिंह, विजय साहू, हंसु विश्वकर्मा तथा बालिका वर्ग से कंचन देवांगन, अंजली राठौर, सरिता साहू, हीरा महरा ने भाग लिया था। खेल का बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए बालिका वर्ग के खिलाडिय़ों ने रजत और बालक टीम ने सिल्वर पदक प्राप्त किया था।

सर्वाधिक खिलाड़ी बिलासपुर से
भारतीय खेल प्राधिकरण द्वारा प्रशिक्षण देने के लिए पूरे देश से 30 बच्चों का चयन किया जाता है। इसमें बिलासपुर से 7 बच्चे और एक दुर्ग की खिलाड़ी शामिल है। जिसमें बालक वर्ग के खिलाड़ी अहमदाबाद स्थित साई सेंटर में कबड्डी का प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। वहीं बालिका वर्ग के खिलाडिय़ों को धर्मशाला हिमाचल प्रदेश में प्रशिक्षित किया जाएगा। यह सभी खिलाड़ी अंडर 17 के हैं जिनकी पढ़ाई, लिखाई का जिम्मा साई द्वारा उठाया जाता है। वहीं बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा भी प्रदान किया जाता है। इसके अलावा बच्चों के रहने और खाने की व्यवस्था भी नि:शुल्क है।
खेल के साथ स्कॉलरशीप में मिलेगा
जिला कबड्डी संघ के अध्यक्ष डॉ. बसंत अंचल ने बताया कि इन सभी बच्चों को साई द्वारा 50-50 हजार रुपए हर वर्ष स्कॉलरशीप के रुप में दिया जाएगा तथा इन्हें कबड्डी की बारीकियां सिखाई जाएंगी। जिससे यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व(sports authority of india) कर सके। बच्चों को बिलासपुर में प्रशिक्षित करने वालों में हेमंत यादव, डॉ शंकर यादव, प्रदीप यादव, नारायण, अवध चंद्राकर का सराहनीय योगदन है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned