छोटे रेलवे स्टेशनों की बढ़ेगी उचाई फुट ओवर ब्रिज की मिलेगी सुविधा

मंडल के छोटे स्टेशनों का नए वित्तीय वर्ष से कायाकल्प का कार्यशुरु होने वाला है।

By:

Updated: 03 Jan 2020, 11:29 AM IST

बिलासपुर. मंडल के छोटे स्टेशनों का नए वित्तीय वर्ष से कायाकल्प का कार्यशुरु होने वाला है। मंडल ने लगभग एक दर्जन छोटे रेलवे स्टेशनों का प्लेटफॉर्म उपर उठाने व फुट ओवर ब्रिज बनाने का प्रस्ताव जोन को भेजा है। स्टेशनों के कायाकल्प से यात्रियों को बेहतर सुविधा मुहैया कराने का दावा रेलवे अधिकारी कर रहे है।
मंडल के कुछ रेलवे स्टेशनों ऐसे है जिनकी उचाई अपेक्षा से काफी कम है ऐसे स्टेशनों से सफर की शुरुआत करने वाले यात्रियों को ट्रेन में चढऩे के दौरान काफी परेशानी का समाना करना पड़ता है। सबसे ज्यादा दिक्कत बुर्जुगों व द्वियांगों को करनी पड़ती है। कम उंचाई होने के कारण वृद्ध या दिव्यांगों को दूसरे यात्रियों पर निर्भर होना पड़ता है। छोटे स्टेशनों में स्टापेज का समय कम होने कारण कुछ यात्री टिकट लेने के बाद भी सफर करने से वंचित रह जाते थे। यात्रियों को रही लगातार परेशानियों व मांग को देखते हुए रेलवे मंडल के अधिकारियों ने छोटे स्टेशनों में प्लेटफॉर्म की उचाई बढ़ाने कम उचाई वाले स्टेशन का सर्वे कराने के बाद प्रस्ताव बनाकर जोन कार्यालय भेजा है। जोन से मंजूरी मिलने के बाद कम उचाई वाले रेलवे स्टेशनों का काम शुरु हो जाएगा।

छोटे स्टेशनों का होगा कायाकल्प
उचाई बढ़ाने वाले रेलवे स्टेशनों में बिलासपुर मंडल के झलवारा रेलवे स्टेशन, सारागांव रेलवे स्टेशन, जामगाह रेलवे स्टेशन, दगोरा रेलवे स्टेशन, कोटमी सोनार रेलवे स्टेशन, गोरीडांड़ रेलवे स्टेशन, बहिया टोला रेलवे स्टेशन, खोंसरा रेलवे स्टेशन, निगोरा रेलवे स्टेशन, पाराटोला रेलवे स्टेशन, नागपुर रोड रेलवे स्टेशन, उदल कछार रेलवे स्टेशन सहित कुछ और रेलवे स्टेशन को डेवल्प मेंट करने की योजना मंडल स्तर पर चल रही है।
कम उचाई वाले रेलवे स्टेशनों की उचाई बढ़ाने का प्रस्ताव जोन कार्यालय भेजा गया है।
किशोर निखारे डीसीएम बिलासपुर

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned