मजदूरों के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन में भी हुई चैन पुलिंग

12-12 सौ यात्रियों को लेकर जोनल स्टेशन पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन, एक में हुई चेन पुलिंग

By: Murari Soni

Published: 05 May 2020, 07:03 PM IST

बिलासपुर. सिंकदराबाद- खगडिया व सूरत-धनबाद के बीच दो श्रमिक स्पेशल ट्रेने मंगलवार को लगभग 10 मिनट के अंतराल में बिलासपुर रेलवे स्टेशन पहुंची। स्टेशन में ट्रेन पहुंचते ही जीआरपी व आरपीएफ के जवानों ने ट्रेनों के अंदर खाना व पानी की व्यवस्था की। 10 मिनट के बाद ट्रेन अपने गंतव्य के लिए रवाना हो गई। यात्रियों ने हाथ हिलाकर खुशी का इंजहार किया। बिलासपुर रेलवे स्टेशन में मंगलवार को दो श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के गुजरने व ट्रेनों में खाने व पीने का पानी उपलब्ध कराने आरआईसीटीसी को सूचना दी थी। बिलासपुर पहुंचने वाली पहली ट्रेन सिंकदराबाद से खगडिय़ा तक चल रही 07002 के प्लेटफॉर्म नं. 1 में पहुंचने का समय 2.40 मिनट था। लेकिन ट्रेन अपने निर्धारित समय लगभग 50 मिनट लेट 3.30 के आस-पास पहुंची। ट्रेन के पहुंचते ही रेलवे सुरक्षा बल व जीआरपी के जवान स्टेशन में सक्रिय हो गए। जवान ट्रेनों के अंदर बैठे यात्रियों को खाना व पानी की बोटल पहुंचाई। महिनों से फंसे लोगों के चेहरे पर घर पहुंचने की खुशी तो थी ही साथ ही गर्मी की वजह से पानी की समस्या का भी सामना करना पड़ रहा है। कुछ लोग पानी लेने के लिए स्टेशन में उतरने का प्रयास कर रहे थे लेकिन आरपीएफ व जीआरपी ने उन्हें ट्रेन से नीचे उतरने से मना कर दिया। ट्रेन 10 मिनट के ठहराव बाद ट्रेन रवाना हो गई। दोपहर तीन बजे बिलासपुर रेलवे स्टेशन पहुंचने वाली सूरत-धनबाद-झारखंड श्रमिक स्पेशल 09075 ट्रेन बनकर चली। ट्रेन को स्टेशन दोपहर 3 बजे आना था लेकिन लेट लतीफी के चलते 3.25 बजे प्लेटफॉर्म नं. 3 पर बिलासपुर रेलवे स्टेशन पहुंची। ट्रेन में मजदूर, औरते व बच्चे भी थे। ट्रेन लगभग 10 मिनट तक स्टेशन में खड़ी रही। यात्रियों को खाना पहले ही रायपुर रेलवे स्टेशन उपलब्ध कराया गया था। बिलासपुर रेलवे स्टेशन में यात्रियों को पानी बॉटल उपलब्ध कराया गया। ट्रेन 3.35 बजे रवाना हुई। सिंकदराबाद स्पेशल में हुई चेन पुलिंग सिंकदराबाद-खगडिया स्पेशल ट्रेन 3.41 को जैसे ही रवाना हुई वैसे ही रैक नं. 96287 में चेन पुलिंग हो गई। चेन पुलिस से रेलवे सुरक्षा बल के जवान भी सकते में आ गए। चेन पुलिंग को लेकर यात्रियों से आरपीएफ के जवानों ने बात करने का प्रयास करना चाहा लेकिन ट्रेन में बैठे लोगों ने कोई जवाब नहीं दिया।

Murari Soni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned