scriptselected top story: third gender are not getting respect in CG | कानून से भी नहीं बनी "इनकी" तो बात | Patrika News

कानून से भी नहीं बनी "इनकी" तो बात

- सम्मान तो दूर मुख्यधारा से भी कोसों दूर थर्ड जेंडर
- प्रदेशभर में 2919 उभयलिंगी, बिलासपुर में सबसे ज्यादा 800 आबादी

बिलासपुर

Updated: October 13, 2021 12:56:15 pm

बरुण सखाजी@बिलासपुर। साल 2019 से लागू उभयलिंगी व्यक्ति (अधिकार और संरक्षण) कानून इस थर्ड जेंडर समुदाय को उतनी राहत नहीं दे पाया है, जितनी की इन लोगों ने उम्मीदें लगा ली थी। हाल ही में बिलासपुर में एक थर्ड जेंडर को उसके पिता ने ही घर से निकाल दिया। वह बिलखते हुए थाने पहुंचा, तो मामला दर्ज किया जा सका। इस कानून के तहत दर्ज होने वाला यह प्रदेश का पहला मामला है। छत्तीसगढ़ के सामाजिक न्याय विभाग के मुताबिक प्रदेश में इनकी संख्या 2919 है, जबकि समुदाय के लोगों का कहना है, राज्य में 20 हजार से भी अधिक लोग हैं। राष्ट्रीय स्तर पर देखें तो इनकी संख्या 4 लाख 87 हजार 803 है।

कानून से भी नहीं बनी

न बैंक खाते खुल रहे न समाज दे रहा सम्मान
थर्ड जेंडर समुदाय की राजरानी कहती हैं, हम हाईवे पर खड़े होकर भीख मांग कर आजीविका चलाने को विवश हैं। अच्छी शिक्षा, स्वास्थ, समाज में बराबरी का हक दूर की कौड़ी है। बिलासपुर में इतनी बड़ी संख्या में आबादी है, लेकिन इनमें से 10-20 के भी बैंक खाते नहीं हैं। तुर्रा यह कि बैंकर ललित कहते हैं, थर्ड जेंडर के लिए बैंकों ने कभी अपने दरबाजे बंद नहीं किए।

चाहिए औपचारिक पहचान
थर्ड जेंडर के क्षेत्र में काम कर रहे विमल भाई कहते हैं, आईकार्ड, सेक्स रिअसाइनमेंट आदि सुविधाएं तब की हैं जब इनके व्यवसाय को भी औपचारिक पहचान मिले। अभी ज्यादातर भिक्षावृत्ति में ही संलग्न हैं।

1030 को जारी किया आईकार्ड
प्रदेश के सामाजिक न्याय विभाग ने अब तक 1030 लोगों को आईकार्ड जारी किए हैं। इसके लिए केंद्र ने एक पोर्टल बनाया है, जिस पर जाकर स्वयं थर्ड जेंडर अपना पंजीयन करा सकते हैं।

दंडेवाड़ा में एक भी नहीं, बिलासपुर में सबसे ज्यादा
सबसे ज़्यादा 800 उभयलिंगी बिलासपुर में हैं। दंतेवाड़ा में एक भी थर्ड जेंडर नहीं।

प्रदेश में 6 लोगों ने ही कराया सेक्स रिअसाइनमेंट
नए कानून में थर्ड जेंडर अपने व्यवहार के अनुसार अपना ***** तय कर सकते हैं। इसके लिए हर सरकारी अस्पताल में फ्री सेक्स रिअसाइनमेंट सर्जरी की व्यवस्था है। प्रदेशभर में 6 लोगों ने ऐसा करवाया है।

नकली थर्ड जेंडर नहीं
प्रदेश में नकली थर्ड जेंडर को लेकर कोई मामला नहीं है। समुदाय की मीना कहती हैं, नकली अलग दिखते हैं।

यूपी में सबसे ज्यादा थर्ड जेंडर
देशभर में फैले 4 लाख 87 हजार 803 थर्ड जेंडरों में से उत्तर प्रदेश में 1 लाख 37 हजार 465 लोग हैं।

इनके उत्थान के लिए विभाग संवेदनशील है।
- पी. दयानंद, डायरेक्टर, समाज कल्याण विभाग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.