ठग बन गया पड़ोसी, एक्सीडेंट होने का हवाला देकर एसईसीएल के चीफ मैनेजर को लगाया 1 लाख का चूना

फेसबुक आईडी की फोटो का उपयोग कर फेक आईडी बनाकर संबंधित व्यक्तियों के मित्रों से फेसबुक और मैसेंजर के माध्यम से पैसों की मांग कर रहे हैं। अपनी फेसबुक प्रोफाइल को लॉक रखिए ताकि कोई व्यक्ति यदि फर्जी आईडी बनाता तो फेसबुक की ओर से आपको भेजे जाने वाले नोटिफिकेशन इसकी जानकारी हो जाती है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 28 Sep 2020, 04:01 PM IST

बिलासपुर. सरकंडा थानांतर्गत बसंत विहार कॉलोनी में रहने वाले एसईसीएल खनन विभाग के चीफ मैनेजर के पड़ोसी की फेक आईडी बनाकर मैसेंजर के माध्यम से ठग ने एक्सीडेंट होने का हवाला देकर एक लाख रुपए की ठगी कर ली। ठग ने और रकम जमा करने के लिए कहा तब चीफ मैनेजर को ठगी का शिकार होने का अहसास हुआ। शिकायत पर पुलिस ने ठग के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है।

सरकंडा पुलिस के अनुसार बसंत विहार कॉलोनी के मकान नंबर डी-51 में रहने वाले अजय तिवारी एसईसीएल में मुख्य प्रबंधक खनन के पद पर कार्यरत हैं। 23 सितंबर को उनके मोबाइल पर मैसेंजर पर पड़ोसी सुधीर अग्रवाल के मैसेजर से 1 मैसेज आया। मैसेज में सुधीर अग्रवाल उन्हें बताया कि उनका और उनकी पत्नी का एक्सीडेंट हो गया है। दोनों अस्पताल में भर्ती हैं। उन्हें पैसे की तत्काल आवश्यकता है। पैसे डॉक्टर को देना जरूरी है।

चार ग्रामीणों को माओवादियों ने किया अगवा, परिजन की तलाश में गए थे जंगल

मदद की गुहार लगाते हुए सुधीर ने पैसे मांगे। अजय तिवारी ने उन्हें फोन पर बात करने के लिए कहा तो सुधीर ने बताया के पत्नी के साथ वे अस्पताल के अंदर हैं। वे शाम तक रकम वापस कर देंगे। सुधीर ने मैसेंजर में मोबाइल नंबर 7099488597 में पैसे जमा करने के लिए कहा। अजय ने उक्त नंबर को डॉ. शिवकुमार का होने की बात कही। अजय ने बेटी स्नेहा तिवारी को उक्त खाते में गूगल पे के माध्यम से रकम ट्रांसफर करने के लिए कहा। स्नेहा ने 5 बार में उक्त खाते में 1 लाख रुपए नकद जमा कर दिया।

फोन कर पूछने पर ठगी का शिकार होने का हुआ अहसास

सुधीर के मैसेंजर से दोबारा 50 हजार रुपए जमा करने के लिए कहा गया। स्नेहा ने मैसेंजर पर बताया कि वे खाते में जमा की गई रकम 1 लाख रुपए को वापस उन्हीं के नंबर पर भेज दें। वह दूसरे एकाउंट से रकम भेज देंगी। ठग ने दूसरा वाट्सएप नंबर 97707342084 भेजा। शक होने पर स्नेहा ने पिता अजय को कहा कि वे सुधीर अग्रवाल के मोबाइल पर कॉल कर जानकारी लेने के लिए कहा।

कॉल करने पर उन्हें पता चला कि सुधीर के नाम पर फेक आईडी बनाकर ठग ने उनसे ठगी की है। स्नेहा ने कस्टमर केयर से बात कर खाते को ब्लाक कराया। स्नेहा और अजय शिकायत लेकर शनिवार रात सरकंडा थाने पहुंचे। स्नेहा की शिकायत पर पुलिस ने ठग के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है।

वीडियो कॉल और प्रोफाइल लॉक रखे- एक्सपर्ट

साइबर एक्सपर्ट एसआई प्रभाकर के अनुसार साइबर फ्रॉड के कई तरीकों से ठग लोगों से ठग कर रहे हैं। फेसबुक आईडी की फोटो का उपयोग कर फेक आईडी बनाकर संबंधित व्यक्तियों के मित्रों से फेसबुक और मैसेंजर के माध्यम से पैसों की मांग कर रहे हैं। अपनी फेसबुक प्रोफाइल को लॉक रखिए ताकि कोई व्यक्ति यदि फर्जी आईडी बनाता तो फेसबुक की ओर से आपको भेजे जाने वाले नोटिफिकेशन इसकी जानकारी हो जाती है।

संपत्ति में हिस्से के लिए करता था माता-पिता और पत्नी से विवाद, तीनों ने मिलकर उतारा मौत के घाट

किसी भी परिचित द्वारा इमरजेंसी होने का हवाला देकर किसी स्थान पर बुलाने की बात करने पर पहले कॉल कट करने के बाद दोबारा वीडियो कॉल कर इन्फर्म कर लें, ताकि यह स्पष्ट हो जाए कि सूचना देने वाला आपका परिचित वास्तव में परेशानी में है या किसी ने षडयंत्र तो नहीं किया है।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned