सुराज के अंतिम दिन मोपका में दल को बनाया बंधक, महिलाओं ने लगाया ताला, पढ़िए क्या है मामला ?

डेढ़ घंटे तक नोडल अधिकारी समेत 15 रहे बंधक, अफसरों के पहुंचने पर मामला शांत हुआ...

By: Amil Shrivas

Updated: 15 Jan 2018, 02:33 PM IST

बिलासपुर . लोक सुराज अभियान का अंतिम दिन भी सुराज दल को बंधक बनाकर रखा गया। इस बार महिलाओं महिलाओं ने सुराज दल को बंधक बनाने गेट में ताला लगा दिया । डेढ़ घंटे की मान-मनौव्वल के बाद ताला खोला गया। पहले चरण में जिले में लगभग डेढ़ लाख आवेदन जमा हुआ है। इसमें आवेदनों की संख्या बढ़ सकती है। लोक सुराज अभियान के पहले चरण का रविवार को अंतिम दिन रहा। इसके चलते अधिकांश केंद्रों में पहले दो दिन की अपेक्षा अंतिम दिन काफी भीड़ नजर आई। शहर से लगे ग्राम पंचायत मोपका में रविवार को दोपहर 12 बजे के करीब गांव की रहने वाली कुसुम धुरी, ममता ध्रुव नामक महिला के नेतृत्व में महिलाएं पहुंची। गांव के कुटीपारा के पहुंच मार्ग, हैंडपंप लगाने और टायलेट निर्माण की राशि का बकाया भुगतान नहीं करने की मांग को लेकर सुराज दल को बंधक बनाते हुए कमरे में ताला जड़ दिया गया।

सरपंच पति व भाजपा मंडल अध्यक्ष ने कहा- भाजपा की महिलाओं ने जड़ा था ताला
पहुंच मार्ग, हैंडपंप, टायलेट निर्माण का बकाया भुगतान करने की मांग

टीम में शामिल थे 15 सदस्य - ग्राम पंचायत मोपका में सुराज दल की प्रभारी व आरईएस की सब इंजीनियर प्रीति तिवारी, आरआई, पटवारी समेत 15 कर्मचारियों को लगभग डेढ़ घंटे तक ताला बंद करके रखा गया। इससे ग्राम पंचायत परिसर में काफी भीड़ हो गई।

अफसरों को सेल फोन से सूचना - सुराज दल के कर्मचारियों ने अपने-अपने विभाग के उच्चाधिकारियों को सेलफोन से सूचना दी गई। इसके बाद अतिरिक्त तहसीलदार एनपी गबेल, सुराज अभियान के जोनल अधिकारी व जल संसाधन विभाग के एसडीओ आरके बंजारे ,सरकंडा के टीआई युवराज तिवारी पंचायत भवन परिसर पहुंचे।

मान-मनौव्वल का चलता रहा दौर - अधिकारियों की टीम ने महिलाओं को उनकी मांगें तत्काल पूरा करने का आश्वासन दिया। बताया गया कि पहुंच मार्ग के लिए राशि का आवंटन हो गया है। टेंडर की प्रक्रिया जारी है। वहीं हैंडपंप लगाने, टायलेट निर्माण का भुगतान कराने का आश्वासन दिया गया। तब जाकर महिलाओं ने कमरे का ताला खोला गया।

सीईओ की नजर में सामान्य बात - जिला पंचायत की सीईओ फरिहा आलम सिद्दीकी ने कहा कि लोक सुराज अभियान का पहला चरण शांतिपूर्वक हो गया। छुटपुट घटनाएं हुई। लेकिन वे सामान्य बात है।

पहले दिन भी बनाए थे बंधक - लोक सुराज अभियान के पहले दिन भी ग्राम संबलपुरी में सुराज दल के अधिकारियों, कर्मचारियों ने बंधक बना लिया था। बहतराई गांव के ग्रामीणों ने उनकी समस्याओं का निराकरण नहीं होने पर बंधक बनाया था।

1.50 लाख से अधिक आवेदन - जिले में पहले चरण में लोक सुराज अभियान के पहले चरण में 1 लाख 50 हजार से अधिक आवेदन जमा होने के अनुमान है। इन आवेदनों का आकंड़े में और बढ़ोतरी होने का अनुमान है।

रात 10 बजे तक छंटाई - लोक सुराज अभियान के अनेक केंद्रों में रात दस बजे तक केंद्रों में आवेदनों की छंटाई का काम चलता रहा। ऐसा काफी संख्या में आवेदन जमा होने से यह स्थिति निर्मित हुई।

आवेदन खरीदना पड़ा - जिला कांगे्रस कमेटी के महामंत्री पिनाज उपवेजा ने बताया कि ग्राम खैरा डगनिया, पेंडरवा एवं गोंदईया में ग्रामीणों को आवेदन का प्रोफार्मा नहीं मिलने पर फोटोकापी दुकान से पांच-पांच रुपए में खरीदना पड़ा।

कक्ष में ताला लगाया - मोपका में सुराज दल के कक्ष में महिलाओं ने ताला जड़ दिया था। कमरे में 15 कर्मचारी मौजूद रहे। महिलाओं को समझाने के बाद ताला खोला गया।
एनपी गबेल, अतिरिक्त तहसीलदार, बिलासपुर

बंधक का मामला सुलझाया गया - मोपका में महिलाओं ने अपनी कुछ मांगों को लेकर सुराज दल के सदस्यों को कमरे बंद कर ताला जड़ दिया था। प्रशासनिक अधिकारियों के पहुंचने के बाद मामला सुलझाया गया।
आरके बंजारे, जोनल अधिकारी व एसडीओ-जल संसाधन,बिलासपुर

सुना है पर डिटेल जानकारी नहीं - मोपका में सुराज दल को बंधक बनाने के बारे में सुना हूं। लेकिन इसकी डिटेल जानकारी नहीं है।
आरएस नायक, सीईओ जपं.बिल्हा

हां थे बंधक - महिलाओं ने बंधक बनाने के लिए कमरे में ताला जड़ा था। उच्चाधिकारियों को सूचना देने के बाद वे पहुंचे। मामला सुलझाएं तब जाकर ताला खोला गया ।
प्रीति तिवारी, दल प्रमुख व सब इंजीनियर आरईएस,मोपका

भाजपा कार्यकर्ता है - जिन महिलाओं ने सुराज दल को बंधक बनाया था। वे सभी महिलाएं भाजपा की कार्यकर्ता हैं।
उषा-तिलक साहू, सरपंच, ग्राम पंचायत मोपका

Amil Shrivas
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned