अगर बच्चा गीला करता है बिस्तर तो एेसे समझाएं

सामान्यत: उम्र बढ़ने के साथ-साथ यह समस्या खुद ठीक हो जाती है। लेकिन यदि 5-6 वर्ष की आयु के बाद भी यह समस्या दूर न हो तो कारण जानने का प्रयास करें।

By: विकास गुप्ता

Published: 04 Apr 2019, 04:26 PM IST

छह साल से कम उम्र के बच्चों में कई बार बिस्तर गीला करने की आदत देखने को मिलती है। इसका कारण यूटीआई (यूरिनरी टै्रक इंफेक्शन), स्पाइनल कॉर्ड से जुड़ी समस्या, मानसिक तनाव, ब्लैडर कंट्रोल में रुकावट, गहरी नींद व हार्मोन में गड़बड़ी आदि हो सकते हैं। सामान्यत: उम्र बढ़ने के साथ-साथ यह समस्या खुद ठीक हो जाती है। लेकिन यदि 5-6 वर्ष की आयु के बाद भी यह समस्या दूर न हो तो कारण जानने का प्रयास करें।

ये हो सकते हैं कारण -
अत्यधिक दबाव, आसपास का माहौल, यूरिन इंफेक्शन, ब्लैडर रिटेंशन की क्षमता में कमी व मधुमेह की प्रारंभिक स्थिति आदि।

अलार्म थैरेपी भी काम की -
आज कल छह वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए अलार्म थैरेपी प्रयोग में ली जा रही है। इस थैरेपी में एक अलार्म बच्चे के बिस्तर में लगाया जाता है और जैसे ही बिस्तर हल्का-सा गीला होता है तो अलार्म के बजने से बच्चा तुरंत उठ जाता है। बार-बार इस प्रक्रिया से उसमें सुधार होने लगता है।

क्या करें -
माता-पिता बच्चे को डांटने की बजाय कारण को जानने की कोशिश करें।
निश्चित समय पर यूरिन करने की आदत डलवाएं।
चाय या कॉफी कम मात्रा में दें।
जिस दिन बिस्तर गीला न करे उस दिन शाबाशी देकर प्रोत्साहित करें। इससे उसके स्वभाव में सकारात्मकता आएगी साथ ही वह आदत में सुधार की कोशिश करेगा।
स्थिति में सुधार न होने पर विशेषज्ञ को दिखाएं। ऐसे मेंं विशेषज्ञ वजह को समझकर उचित इलाज देते हैं।

5 वर्ष से छोटा होने पर -
माता-पिता बच्चे को प्यार से समझाएं व वॉशरूम में जाने की आदत डलवाएं।
रात को 8 या 9 बजे के बाद लिक्विड चीजें कम दें।
सोने से तुरंत पहले यूरिन कराएं और सोने के 2-3 घंटे बाद बच्चे को जगाकर ऐसा करवाएं।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned