आर्थराइटिस होने पर व्यायाम से साधें ताल

Mukesh Sharma

Publish: Jun, 15 2018 03:54:17 AM (IST)

तन-मन
आर्थराइटिस होने पर व्यायाम से साधें ताल

आर्थराइटिस में जोड़ों में जलन, सूजन व दर्द की समस्या हो जाती है। जोड़ों में चोट, कमजोर मांसपेशियों व रक्तसंचार सुचारू रूप से न होने के...

आर्थराइटिस में जोड़ों में जलन, सूजन व दर्द की समस्या हो जाती है। जोड़ों में चोट, कमजोर मांसपेशियों व रक्तसंचार सुचारू रूप से न होने के कारण यह रोग हो सकता है।

मांसपेशियों की अकडऩ होगी दूर

आर्थराइटिस में व्यायाम कारगर उपचार साबित हो सकता है। इससे जोड़ों के दर्द में आराम मिलने के साथ मांसपेशियों की अकडऩ दूर होकर लचीलापन व मजबूती मिलती है। इसके अलावा व्यायाम से अधिक वजन घटता है और मानसिक रूप से शांति भी मिलती है।

कई शोध में यह बात सामने आयी है कि जो लोग एक्सरसाइज नहीं करते या बहुत कम पैदल चलते हैं, उनमें हड्डियों संबंधी रोगों का खतरा बढ़ जाता है। वॉक व व्यायाम के साथ रोजाना शारीरिक रूप से सक्रिय बनकर इस रोग की आशंका को घटाया जा सकता है।

स्ट्रेचिंग व स्ट्रेंथनिंग फायदेमंद

स्ट्रेचिंग: जोड़ों का मूवमेंट सामान्य करने व मांसपेशियों में लचीलापन लाने के लिए स्टे्रचिंग फायदेमंद मानी जाती है।
स्टे्रंथनिंग: यह वेट ट्रेनिंग जैसी एक्सरसाइज है जो मांसपेशियों को मजबूत बनाती है। मजबूत मसल्स उन जोड़ों की रक्षा करती हंै जो आर्थराइटिस से प्रभावित हैं। इसे किसी एक्सपर्ट की देखरेख में ही करना चाहिए वर्ना मांसपेशियों में अत्यधिक खिंचाव होने से समस्या बढ़ सकती है। मशीनों से भी स्टे्रंथनिंग कसरत की जा सकती है।

बरतें सावधानियां

व्यायाम करने से पहले जोड़ों की अच्छी तरह सिंकाई करें। लचीलेपन के लिए एरोबिक एक्सरसाइज भी की जा सकती है। एक्सरसाइज से पहले स्ट्रेचिंग करें। इसके बाद कोल्ड पैड का इस्तेमाल करें। कोई भी व्यायाम विशेषज्ञ के निर्देशानुसार ही करें। यदि किसी व्यायाम से जोड़ों में किसी भी प्रकार की समस्या बढ़ रही है तो चिकित्सक से परामर्श जरूर लें।

घरेलू नुस्खों से भी राहत

जोड़ों में दर्द के अलावा कई बार कमर में असहनीय दर्द होने पर भी समस्या बढ़ जाती है। ऐसे में ये घरेलू उपचार किए जा सकते हैं-
लहसुन का पेस्ट बनाकर आधे घंटे के लिए दर्द वाले स्थान पर लगाएं। इसके बाद गर्म पानी से धो लें।
लहसुन के तेल से मालिश करें। खाली पेट लहसुन की 2-3 कलियां खाना भी इस रोग से पीडि़त लोगों के लिए लाभकारी है। इसका शरीर पर कोई दुष्प्र्रभाव नहीं होता।
लेमनग्रास ऑयल में दोगुनी मात्रा में नारियल तेल मिलाएं और मालिश करें।
पान के पत्ते के जूस को नारियल तेल में मिलाकर मालिश करने से दर्द में आराम मिलता है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned