हृदय रोग, बीपी, एनीमिया के मर्ज में है ये कारगर

हृदय रोग, बीपी, एनीमिया के मर्ज में है ये कारगर

Jitendra Kumar Rangey | Publish: Apr, 18 2019 11:25:28 AM (IST) तन-मन

इसमें विटामिन ए, सी, थाइमिन, पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, जिंक, फाइबर आदि पाया जाता है।

फाइबर पाया जाता है
कटहल के कई गुणकारी लाभ है। सब्जी, अचार और पकौड़े के अलावा इसे तल कर भी खाया जाता है। इसमें खूब सारा फाइबर पाया जाता है। इसमें बिल्‍कुल भी कैलोरी नहीं होती है। पके हुए कटहल के पल्प को अच्छी तरह से मैश करके पानी में उबाला जाए और इस मिश्रण को ठंडा कर एक गिलास पीने से ताजगी आती है, यह दिल के रोगियों के लिये उपयोगी माना जाता है। कटहल में कई पौष्टिक तत्व होते हैं। इसमें विटामिन ए, सी, थाइमिन, पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, जिंक, फाइबर आदि पाया जाता है।
ऐसे करें प्रयोग
कटहल के गूदे को अच्छे से मसल लें और पानी में उबालें। इसे ठंडा करके पीने से ताजगी आती है। मैग्नीशियम हड्डियों को मजबूत करता है। विटामिन सी व ए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। कटहल अल्सर और पाचन संबंधी समस्या को भी दूर करता है। कटहल में पोटैशियम पाया जाता है जो कि दिल की समस्‍या को दूर करता है क्‍योंकि यह ब्‍लड प्रेशर को कम कर देता है। इस रेशेदार फल में काफी आयरन पाया जाता है। यह एनीमिया दूर करता है। शरीर में रक्तसंचार बढ़ाता है। इसकी जड़ अस्‍थमा के रोगियो के लिए लाभदायक मानी जाती है इसकी जड़ को पानी के साथ उबाल कर बचा हुआ पानी छान कर लेने से अस्‍थमा पर नियंत्रण होता है। थायराइड के लिए भी कटहल उत्तम है इसमें मौजूद सूक्ष्म खनिज और कॉपर थायराइड चयापचय के लिए अच्छा होता है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned