फेसबुक थैरेपी से बढ़ाएं अपना आत्मविश्वास, जानें इसके बारे में

आइये जानते हैं फेसबुक थैरपी के बारे में

Vikas Gupta

08 Dec 2018, 01:58 PM IST

फेसबुक पर लिखना एक प्रकार की थैरेपी है, जिससे व्यक्ति खुद को बेहतर तरीके से पहचान सकता है और अपनी प्रतिभा दूसरों के सामने उजागर कर खुद को इंप्रूव भी कर सकता है। तो आइये जानते हैं फेसबुक थैरपी के बारे में

दिल को सुकून: ऑस्ट्रेलियन रिसर्च काउंसिल सेंटर फोर एक्सीलेंस एंड इनोवेशन के मुताबिक फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर लोग अपनी उपलब्धियों के बखान के अलावा गलतियों को स्वीकार करने का भी पूरा अवसर पाते हैं, जिससे उनका मन हल्का हो जाता है। इस लिए आपके मन में किसी भी मुद्दे को लेकर जो विचार हैं उन्हें फेसबुक पर जरू लिखें।

ज्ञान में बढ़ोतरी: सोशल साइट्स पर रोजाना नए विचार जानने और विशेषज्ञों की राय जानने का मौका मिलता है।

समान अवसर-

सोशल साइट्स सभी लोगों को समान अवसर प्रदान करती हैं। चाहे वह कोई विशेषज्ञ या विद्वान हों या सामान्य गृहिणी। हर रोज पचासों या सैकड़ों लोगों के विचार और उनके अभिव्यक्तिके तरीके को जानना व्यक्तित्व निखारने व खुद को राहत पहुंचाने का बेहद अच्छा और आसान तरीका है।

विकास गुप्ता Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned