नवी मुंबई में फंसे बोकारो के 63 श्रमिक खाने-पीने को तरसे

( Jharkhand News ) बोकारो के ( Corona News ) इन मजदूरों पर दोहरी मार पड़ गई। घर से परदेश मजदूरी करने गए गोमिया प्रखंड के मजदूर ( Laboures stranded ) एक तरफ जहां अपने परिजनों से मिलने की बाट देख रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ खाने-पीने के लाले ( Labourers are hand to mouth ) पड़ गए हैं। गोमिया के करीब 63 श्रमिक अपने घर-परिवार की गुजर-बसर करने के लिए नवी मुंबई गए थे।

बोकारो(झारखंड): ( Jharkhand News ) बोकारो के ( Corona News ) इन मजदूरों पर दोहरी मार पड़ गई। घर से परदेश मजदूरी करने गए गोमिया प्रखंड के मजदूर ( Laboures stranded ) एक तरफ जहां अपने परिजनों से मिलने की बाट देख रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ खाने-पीने के लाले ( Labourers are hand to mouth ) पड़ गए हैं। गोमिया के करीब 63 श्रमिक अपने घर-परिवार की गुजर-बसर करने के लिए नवी मुंबई गए थे।

लॉक डाउन के कारण वापसी नहीं
इस दौरान देश में कोरोना वायरस के प्रकोप की रोकथाम के लिए देशभर लॉक डाउन की घोषणा हो गई। इससे इन मजदूरों के सामने घर वापसी का संकट खड़ा गया है। लॉक डाउन से बस-ट्रेन और यहां तक टैक्सी भी बंद कर दी गई। परिवहन का कोई साधन नहीं होने के कारण श्रमिक वहीं अटक गए। फिलहाल ये सभी श्रमिक नवी मुंबई के उडऩ पनवेल थाना इलाके के वहल में फंसे हुए हैं। इनके सामने खाने-पीने के अलावा घर वापस आने की समस्या खड़ी हो गई।

विधायक ने मुख्यमंत्री को किया ट्विट
स्थानीय विधायक लंबोदर महतो के मुताबिक श्रमिकों की सुरक्षित वापसी के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से गुहार लगाई है। विधायक महतो ने मुख्यमंत्री को ट्विट कर इन श्रमिकों के लिए मदद मांगी है। इसी तरह देवघर के भी 25 के हरिद्वार में होने की सूचना है। मजदूरी के लिए गए इन श्रमिकों की हालत भी खराब है। इनके पास भी खाने-पीने के सामान की किल्लत बनी हुई है। मुख्यमंत्री सोरेन ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से इन मजूदरों के भोजन-पानी के इंतजाम का अनुरोध किया है। देशभर में लॉकडाउन होने के कारण नवी मुंबई और हरिद्वार में फंसे इन श्रमिकों की वापसी आसान नहीं है।

Corona virus
Show More
Yogendra Yogi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned