आदित्य ने उठाया घायलों के इलाज का खर्चा, हादसे के बाद मांगी माफी
Riya Jain
Publish: Mar, 14 2018 05:25:17 (IST) | Updated: Mar, 14 2018 05:32:21 (IST)
आदित्य ने उठाया घायलों के इलाज का खर्चा, हादसे के बाद मांगी माफी

आदित्य नारायण ने मंगलवार को अपनी कार से हुई दुर्घटना पर माफी मांगी।

बॅालीवुड इंडस्ट्री के गायक व रिएलिटी टीवी शो होस्ट कर चुके आदित्य नारायण ने मंगलवार को अपनी कार से हुई दुर्घटना पर माफी मांगी। उन्होंने अपनी गाड़ी से एक ऑटो रिक्शा को टक्कर मार दी थी, जिससे दो लोग घायल हो गए थे।

आदित्य नारायण का बयान

प्लेबैक सिंगर उदित नारायण के बेटे आदित्य ने कहा, ''यह दुर्भाग्यपूर्ण हादसा है....जो हुआ उसका मुझे अफसोस है।'' आदित्य ने बताया कि वह दोपहर साढ़े 12 बजे ओशिवारा में अपने घर से अंधेरी जाने के लिए अपनी मर्सडीज बेन्ज से निकले थे। लोखंडवाला सर्किल पर विपरीत दिशा से उनकी तरफ तेजी से एक ऑटो आता दिखा।

आदित्य ने आगे बताया, ''मुझे लगा वह धीमे हो जाएगा लेकिन उसने स्पीड कम नहीं की बल्कि वह दाएं मुड़ गया। उससे बचने के लिए मैंने गाड़ी बाएं मोड़ दी जिससे एक दूसरे ऑटो को टक्कर लग गई और वह पलट गया। हंगामा सुनकर भारी भीड़ इकट्ठी हो गई, लेकिन कोई भी मदद के लिए आगे नहीं आया। एक ऑटोरिक्शा चालक आगे आया जो दो घायलों को कोकिलाबेन अंबानी अस्पताल जाने के लिए सहमत हुआ। अस्पताल वहां से महज एक किलोमीटर दूर था।''

आदित्य ने कहा कि उन्होंने सुनिश्चित किया कि ऑटो में सवार सुरेखा अंकुश शिवेकर (32) और ऑटो ड्राइवर राजकुमार बाबुराव (64) को कोकिलाबेन अंबानी अस्पताल में भर्ती करा कर इलाज शुरू कर दिया जाए।

उन्होंने कहा, ''मैंने महिला के फोन से ब्यूटी पार्लर में उनकी बॉस को फोन किया, जहां वह काम करती हैं। इसके बाद उनके परिवार वाले अस्पताल पहुंच गए। मैं पैसे लेने घर गया और दोनों घायलों के इलाज का खर्च उठाने का फैसला लिया।'' तब तक आदित्य ने गाड़ी को वर्सोवा पुलिस स्टेशन ले जाने के लिए ड्राइवर का इंतजाम कर लिया। वहां रिपोर्ट दर्ज कराई जा चुकी थी। बाद में उनका अस्पताल में ब्लड टेस्ट हुआ।

आदित्य के वकील ने बताया

आदित्य के वकील जुल्फिकार मेमन ने कहा, ''आदित्य ने वह किया, जो एक जिम्मेदारी नागरिक को करना चाहिए। परिवार ने घायल व्यक्तियों का ध्यान रखा है और उनकी चिकित्सा आवश्यकताओं का भी ध्यान रखा जा रहा है।''

आदित्य ने इस मामले में सभी अटकलों को खारिज करते हुए बताया कि उन पर मोटर वाहन अधिनियम की धारा 337 के तहत मामला दर्ज किया गया। साथ ही 10,000 रुपए का जुर्माना लगाया गया। पैसा चुकाने के बाद उन्हें तुरंत जमानत दे दी गई।