दिल का दौरा पड़ने से इस मशहूर अभिनेत्री का हुआ निधन, लाखों फैंस सदमें में

By: Mahendra Yadav
| Published: 26 Jan 2018, 03:36 PM IST
दिल का दौरा पड़ने से इस मशहूर अभिनेत्री का हुआ निधन, लाखों फैंस सदमें में
Supriya devi

उन्हें वर्ष 2014 में पद्मश्री पुरस्‍कार से सम्मानित किया गया।

मशहूर बांग्ला अभिनेत्री सुप्रिया देवी का शुक्रवार को 83 साल की उम्र में निधन हो गया। सुप्रीया देवी को आज तड़के आवास पर ही दिल का दौरा पड़ा और उनका निधन हो गया। उनके निधन पर पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ट्वीट कर संवेदना जताई है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, 'बंगाल की अनुभवी अभिनेत्री सुप्रिया चौधरी (देवी) के निधन से शोकग्रस्त हूं। हम उन्हें उनकी फिल्मों के जरिये याद रखेंगे। उनके परिजनों और प्रशंसकों के प्रति संवेदनाएं।' वहीं सुप्रिया देवी के निधन से पूरा बंगाल सिनेमा में शोक की लहर है। कई अभिनेताओं और अभिनेत्रियों ने अपना दुख जाहिर करते हुए सुप्रिया देवी की मृत्यु पर दुख जताया और अपनी संवेदनाएं प्रकट की।

बता दें कि सुप्रिया देवी का जन्म 1933 में हुआ था। सुप्रिया देवी का जन्‍म म्‍यामांर में हुआ था। उनके पिता गाेपाल चंद्र बनर्जी वकील थे। उन्होंने 5 दशकों तक फिल्मों में काम किया। 50 सालों तक बंगाली सिनेमा में काम करने योगदान के लिए उन्हें वर्ष 2014 में पद्मश्री पुरस्‍कार से सम्मानित किया गया। वहीं 2011 में उन्हें बंग विभूषण से नवाजा गया। सुप्रिया देवी ने अपने फिल्मी करियर की शुरूआत उत्तम कुमार के साथ 1952 में की थी। उन्होंने 'बासु परिवार' से फिल्मों में डेब्यू किया था। लेकिन 1959 में आई उनकी फिल्म 'सोनार हरिन' से वह फेमस हो गईं। यह फिल्म उनके लिए मील का पत्थर साबित हुई।

इस फिल्म के बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। इस फिल्म में भी उनके हीरो उत्तम कुमार ही थे। इसके अलावा उन्होंने 'चौरंगी', 'बाग बंदी खेला', 'मेघे धाका तारा', सन्‍यासी राजा, स्‍वरलिपि, कोमल गांधार, अनारकली जैसी बेहतरीन फिल्में भी दी। सुप्रिया के परिवार में एक बेटी है। उनकी बेटी ने ही निधन की खबर दी। सुप्रिया देवी ने वर्ष 1954 में विश्वनाथ चौधरी से शादी की थी और कुछ साल बाद ही उनकी एकमात्र बेटी सोमा का जन्म हुआ।