इस लड़की के कहने पर मनोज कुमार ने छोड़ा था सिगरेट पीना, आज भी अधूरी है एक ख्वाहिश

By: Preeti Khushwaha
| Published: 24 Jul 2018, 03:26 PM IST
इस लड़की के कहने पर मनोज कुमार ने छोड़ा था सिगरेट पीना, आज भी अधूरी है एक ख्वाहिश
manoj kumar

मनोज कुमार के नाम से फेमस इस एक्टर का असली नाम हरिकिशन गिरि गोस्वामी है।

बॉलीवुड के दिग्गज कलाकार मनोज कुमार उन कलाकरों में से हैं जिनकी एक्टिंग का लोहा आज भी लोग मानते हैं। आज मनोज कुमार का जन्मदिन है। उनका जन्म 24 जुलाई, 2018 को हुआ था। उन्होंने अपने फिल्मी कॅरियर में कई हिट फिल्में दी है। बॉलीवुड में मनोज कुमार के नाम से फेमस इस एक्टर का असली नाम हरिकिशन गिरि गोस्वामी है। मनोज को सिगरेट करने की बुरी आदत थी। लेकिन उन्होंने एक लड़की के कहने पर अपनी इस गलत आदत को हमेशा के लिए छोड़ दिया था। आज हम आपको उनके जीवन से जुड़ी ऐसी कई दिलचस्प बाते बताने जा रहे हैं।

एक अंजान लड़की की वजह से सिगरेट पीना छोड़ा:
मनोज कुमार को लोग भारत कुमार के नाम से भी पुकारते थे। इस नाम को वो एक बोझ मानने की जगह ईश्वर और जनता का दिया हुआ आशीर्वाद मानते हैं। मनोज कुमार ने एक बार इंटरव्यू में अपने जीवन से जुड़ा एक दिलचस्प् किस्सा सुनाया था। उन्होंने बताया कि किस तरह उनकी सिगरेट पीने की आदत छूटी। उन्होंने बाताया, 'कई साल पहले मैं परिवार के साथ रेस्टोरेंट में खाना खाने गया, सिगरेट का तब शौक था, सिगरेट पिया.. एक नौजवान लड़की आई और मुझे डांटते हुए कहा, 'आप भारत होकर सिगरेट पी रहे हो, आर्न्ट यू असेम्ड?”, उसके बाद जो फिल्में कीं, उसमें मैंने एक हीरोइन को टच भी किया.. कि सीरियस बात कर रहा है.. तो ये चीप न हो जाए, जब सिगरेट पीता था तो छुपके.. कोई फोटोग्राफर फोटो न खींच ले। उन्होंने सुधारा मेरे को.. बड़ा बोझ है इस नाम का मुझ पे, जरूरत से ज्यादा जिम्मेदारियां डालता है ये, डालो.. भारत कुमार भी आशीर्वाद है, ईश्वर का, जनता का, बोझ भी आशीर्वाद है, तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा।'

 

Manoj Kumar

इन फिल्मों ने दिलाई पहचान:
मनोज कुमार ने अपने जीवन में कई फिल्मों में काम किया। लेनिक उनकी हिट फिल्मों की बात करें तो उनमें ‘शहीद’, ‘उपकार’, ‘पूरब और पश्चिम’ और ‘क्रांति’ जैसी देशभक्ति पर आधारित फिल्में ज्यादा पसंद की गईं। इन्हीं फिल्मों की वजह से लोग उन्हें भारत कहकर पुकारने लगे। उन्हें अपने जीवन में दौलत और शोहरत दोनों खूब मिली बस एक ही ख्वाहिश पूरी न हो सकी।

एक ख्वाहिश न हुई पूरी :
मनोज कुमार ने इंटरव्यू में बताया कि वह अपनी चाची से कहते थे, 'मैं मुंबई जाऊंगा, एक्टर बनूंगा, सफेद बंगला होगा, सफेद गाड़ी होगी, सफेद कुर्ता होगा, सफेद धोती होगी और एक कमरे में बैठके सितार बजाया करूंगा, बांसुरी बजा लेता था, जब सबकुछ हो गया तो चाची मेरी कहने लगीं, 'सितार बाकी रह गई।' मनोज कुमार अपनी इस इच्छा को पूरा करना चाहते हैं लेकिन अब उनकी तबियत ठीक न होने के कारण वह ज्यादातर अपने बिस्तर पर ही रहते हैं।