कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ पर बोले हिमांश- सपनों के घर को नुकसान पहुंचाने का अधिकार किसी को नहीं

By: पवन राणा
| Updated: 12 Sep 2020, 12:17 AM IST
कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ पर बोले हिमांश- सपनों के घर को नुकसान पहुंचाने का अधिकार किसी को नहीं
कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ पर बोले हिमांश- सपनों के घर को नुकसान पहुंचाने का अधिकार किसी को नहीं

इसे एक निंदनीय कृत्य बताते हुए हिमांश कोहली ( Himansh Kohli ) ने कहा, 'किसी को सही या गलत साबित किए जाने की कोशिश किए बिना ही आपस में बात करें, लड़ें। इस बीच किसी प्रकार की हिंसा में शामिल होना न केवल अमानवीय है बल्कि बेहद अपरिपक्व भी है। कंगना रनोत ( Kangana Ranaut ) और उनके नए बनाए स्टूडियो के साथ जो हुआ, वह निंदनीय है।'

मुंबई। बृहन्मुंबईनगर निगम (बीएमसी) द्वारा बांद्रा स्थित अभिनेत्री कंगना रनोत ( Kangana Ranaut ) के ऑफिस में तोड़फोड़ किए जाने के बाद अभिनेता हिमांश कोहली उनके समर्थन में आ गए हैं। उनका कहना है कि अपने सपनों का घर बनाने के लिए एक इंसान को काफी कड़ी मेहनत करनी पड़ती है और उसे नुकसान पहुंचाने का अधिकार किसी को नहीं है।

इसे एक निंदनीय कृत्य बताते हुए हिमांश ने कहा, यह समझना वाकई में काफी मुश्किल है कि किसी बहस के दौरान लोग इसे इस कदर व्यक्तिगत तौर पर क्यों ले लेते हैं। किसी को सही या गलत साबित किए जाने की कोशिश किए बिना ही आपस में बात करें, लड़ें। इस बीच किसी प्रकार की हिंसा में शामिल होना न केवल अमानवीय है बल्कि बेहद अपरिपक्व भी है। यह दिखाता है कि आपका अपनी भावनाओं पर कोई काबू नहीं है। कंगना रनौत और उनके नए बनाए स्टूडियो के साथ जो हुआ, वह निंदनीय है।

उन्होंने आगे कहा, किसी इंसान का मुंबई आना, यहां सालों संघर्ष करना, किसी तरह से काम का मिलना, आखिरकार कई साल अच्छा काम करने के बाद अपना नाम बनाना, भविष्य की बात को ध्यान में रखते हुए किसी प्रॉपर्टी को खरीदना, यह सबकुछ काफी कठिन है, लेकिन ये सारे सपने बिखेर दिए गए। एक बार जब आपके साथ कुछ इतना बुरा होता है, तो सिस्टम से आपका यकीन उठ जाता है।

आखिर में हिमांश लिखते हैं, हर किसी के लिए उसकी संपत्ति काफी मायने रखती है। आखिरकार यह कई सालों की कड़ी मेहनत का परिणाम है। इसे नष्ट करने का अधिकार किसी के पास भी नहीं है। मुझे यकीन है कि वह न केवल अपनी वापसी करेंगी बल्कि और मजबूत बनकर उभरेंगी। कंगना और उनकी टीम को अधिक ताकत मिलें।