मूवीज के पोस्ट प्रोडक्शन की जल्द मिल सकती है इजाजत, शूटिंग के लिए एक्शन प्लान के सरकार ने ​दिए निर्देश

By: पवन राणा
| Published: 21 May 2020, 10:54 PM IST
मूवीज के पोस्ट प्रोडक्शन की जल्द मिल सकती है इजाजत, शूटिंग के लिए एक्शन प्लान के सरकार ने ​दिए निर्देश
मूवीज के पोस्ट प्रोडक्शन की जल्द मिल सकती है इजाजत, शूटिंग के लिए एक्शन प्लान के सरकार ने ​दिए निर्देश

फिल्मों के पोस्ट प्रोडक्शन का कामकाज बहाल करने के लिए महाराष्ट्र सरकार से 25-26 मई तक इजाजत मिल सकती है।

महाराष्ट्र सरकार ने फिल्म और टीवी इंडस्ट्री को शूटिंग की बहाली के लिए एक्शन प्लान बनाने के निर्देश दिए हैं, लेकिन सिनेमाघर जल्दी खुलने की संभावनाओं से इनकार किया है। बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मनोरंजन इंडस्ट्री के निर्माताओं और कलाकारों से चर्चा करते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ( Maharastra CM ) उद्धव ठाकरे ने कहा कि उनकी सरकार शूटिंग और पोस्ट प्रोडक्शन ( Post Productcion ) कामकाज की बहाली के लिए ऐसे एक्शन प्लान पर विचार करेगी, जिसमें फिजिकल डिस्टेंसिंग तथा दूसरी सावधानियों को शामिल किया गया होगा। इस संकट काल में सरकार तकनीशियंस, स्टेज के पीछे के कलाकारों, कार्यकर्ताओं, लोक तथा तमाशा कलाकारों के साथ खड़ी है। महाराष्ट्र के नॉन-रेड जोन्स में शूटिंग और पोस्ट प्रोडक्शन बहाल करने की इजाजत दी जा सकती है।

पोस्ट प्रोडक्शन की इजाजत जल्द मिलने के आसार
फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉइज (एफडब्ल्यूआईसीई) के अध्यक्ष बी.एन. तिवारी का कहना है कि फिल्मों के पोस्ट प्रोडक्शन का कामकाज बहाल करने के लिए महाराष्ट्र सरकार से 25-26 मई तक इजाजत मिल सकती है। इससे उन फिल्मों को पूरा करने में मदद मिलेगी, जो संपादन, डबिंग, साउंड मिक्सिंग, गानों की रिकॉर्डिंग, ग्राफिक्स और वीएफएक्स के कारण अटकी हुई हैं। मुम्बई में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों से हालात चिंताजनक हैं। तिवारी ने कहा- 'हम सुनिश्चित करेंगे कि पोस्ट प्रोडक्शन कामकाज के समय कम से कम लोग मौजूद रहें और रोज शाम पांच बजे काम पूरा कर लिया जाए, ताकि कफ्र्यू की मियाद से पहले सभी घर पहुंच सकें।'

सौ से ज्यादा सीरियल्स के तीन लाख कर्मचारी संकट में
मुख्यमंत्री से चर्चा के दौरान फिल्म निर्माता नितिन वैद्य ने बताया कि शूटिंग ठप होने से सौ से ज्यादा धारावाहिक अटके हुए हैं। इनमें हिन्दी के 70 और मराठी के 40 धारावाहिक शामिल हैं। इनसे जुड़े करीब तीन लाख कर्मचारियों के रोजगार पर असर पड़ा है। टीवी चैनल्स के पास नए धारावाहिक नहीं होने से वे पुराने कार्यक्रमों से काम चला रहे हैं। इससे उनकी टीआरपी में भारी गिरावट आई है।

मानसून में नहीं होती शूटिंग
फिल्म और धारावाहिकों के निर्माताओं का कहना है कि शूटिंग की इजाजत मानसून से पहले मिलना जरूरी है, क्योंकि बारिश शुरू होने के बाद शूटिंग रोक दी जाती है। कई फिल्मों के तैयार सेट्स बारिश में खराब हो जाएंगे। इन सेट्स पर लाखों रुपए खर्च हुए हैं। इनमें संजय लीला भंसाली की 'गंगूबाई काठियावाड़ी' का भव्य सेट शामिल है।