चौथी क्लास तक पढ़ी थी बिग बी की मां, दीवार फिल्म में आए थे साथ

हिन्दी सिनेमा में निरूपा रॉय को ऐसी अभिनेत्री के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपने किरदारों से मां के चरित्र को नया आयाम दिया।

4 जनवरी 1931 को गुजरात के बलसाड में जन्मी निरूपा राय का असली नाम कोकिला था। मिडिल क्लास गुजराती फैमिली में जन्मी निरूपा के पिता रेलवे में काम किया करते थे। चौथी क्लास तक पढ़ी निरूपा की शादी मुंबई में काम करने वाले कमल राय से हुई और शादी के बाद वह मुंबई आ गईं। उन्हीं दिनों निर्माता-निर्देशक बी.एम.व्यास अपनी नई फिल्म 'रनकदेवी' के लिए नए चेहरों की तलाश कर रहे थे।


उन्होंने अपनी फिल्म में एक्टर्स के लिए न्यूजपेपर में एड दिया। निरूपा राय के पति फिल्मों के बेहद शौकीन थे और एक्टर बनना चाहते थे। कमल राय अपनी पत्नी को लेकर बी.एम.व्यास से मिलने गए और एक्टर बनने की पेशकश की लेकिन बी.एम.व्यास ने साफ कह दिया कि उनकी पर्सनेलिटी एक्टर बनने के लायक नही है। लेकिन अगर वे चाहें तो उनकी पत्नी को एक्ट्रेस के रूप में काम मिल सकता है। फिल्म रनकदेवी में निरूपा राय 150 रुपए महीने पर काम करने लगी लेकिन बाद में उन्हें इस फिल्म से अलग कर दिया गया।