Anurag Kashyap पर लगे आरोपों के बीच राम गोपाल वर्मा ने कहा- 20 साल से उनके बारे में नहीं सुना...

By: पवन राणा
| Published: 22 Sep 2020, 01:14 AM IST
Anurag Kashyap पर लगे आरोपों के बीच राम गोपाल वर्मा ने कहा- 20 साल से उनके बारे में नहीं सुना...
अनुराग पर लगे आरोपों के बीच राम गोपाल वर्मा ने कहा- 20 साल से उनके बारे में नहीं सुना...

राम गोपाल वर्मा ( Ram Gopal Varma ) का ट्वीट उस समय आया है, जब कश्यप का नाम हैशटैगमीटू में लिया गया है। उन पर यह आरोप 'पटेल की पंजाबी शादी' की अभिनेत्री पायल घोष ने लगाया है।

मुंबई। निर्देशक राम गोपाल वर्मा ( Ram Gopal Varma ) ने फिल्मकार अनुराग कश्यप का समर्थन करते हुए ट्वीट किया है। फिल्मकार पर नई अभिनेत्री पायल घोष ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

वर्मा ने सोमवार को ट्वीट किया, 'अनुराग कश्यप को मैं जानता हूं, वह बहुत ही संवेदनशील और भावुक व्यक्ति हैं और मैंने 20 साल में किसी से भी उनके बारे में नहीं सुना है कि उन्होंने किसी को तकलीफ पहुंचाई होगी। इसलिए मैं स्पष्ट रूप से यह नहीं बता सकता कि अब ये सब क्या हो रहा है।'

 

वर्मा का ट्वीट उस समय आया है, जब कश्यप का नाम हैशटैगमीटू में लिया गया है। उन पर यह आरोप 'पटेल की पंजाबी शादी' की अभिनेत्री पायल घोष ने लगाया है। पायल के आरोप लगाने के बाद कश्यप को फिल्मकार हंसल मेहता, वासन बाला और अनुभव सिन्हा सहित कई अन्य बॉलीवुड सहयोगियों का समर्थन मिला है। उनकी पूर्व पत्नियां आरती बजाज और कल्कि कोचलिन भी उनके साथ खड़ी हैं। इसके साथ अभिनेत्री तापसी पन्नू, टिस्का चोपड़ा, सुरवीन चावला और माही गिल भी समर्थन करने वालों में शामिल हैं।

फिल्म निर्माता अनुभव सिन्हा ने सोमवार को सोशल मीडिया पर बॉलीवुड एक्ट्रेसेस के अनुराग के समर्थन में आने की सराहना की है। सिन्हा ने ट्वीट कर कहा, 'महिलाओं को अपने समकक्षों का बचाव करने के लिए कदम बढ़ाते हुए देखना अच्छा लग रहा है। आप सबका धन्यवाद। यह वह समय है, जब आपने सुनिश्चित किया कि मी टू कैंपेन को एक राजनीतिक टूल नहीं बनने देंगी। इस ट्वीट के माध्यम से आप सभी को प्यार भेज रहा हूं।

इससे पहले रविवार को सिन्हा ने अनुराग कश्यप के समर्थन में ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था, 'यह महिलाओं और पुरुषों दोनों की संयुक्त जिम्मेदारी है कि वे पूरी सावधानी से मी टू इंडिया कैंपेन की पवित्रता की रक्षा करें। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण आंदोलन है, जिसका किसी अन्य कारण से दुरुपयोग नहीं किया जाना चाहिए।'