Sana Khan पर लग चुका है एक लड़की के किडनैपिंग का आरोप, अब मजहब के लिए छोड़ दी फिल्म इंडस्ट्री

By: Sunita Adhikari
| Published: 10 Oct 2020, 01:29 PM IST
Sana Khan पर लग चुका है एक लड़की के किडनैपिंग का आरोप, अब मजहब के लिए छोड़ दी फिल्म इंडस्ट्री
sana Khan

  • सना ने कहा कि वह फिल्म इंडस्ट्री को छोड़कर अब इंसानियत की खिदमत और अपने पैदा करने वाले के हुकुम पर चलने का पक्का इरादा कर रही हैं।

नई दिल्ली: एक्ट्रेस सना खान ने हाल ही में फिल्म इंडस्ट्री को छोड़ने का एलान किया है। सना के मुताबिक अब वह मजहब की राह पर चलेंगी। गुनाह की जिंदगी से बचकर इंसानियत की खिदमत करेंगी। सना ने कहा कि वह फिल्म इंडस्ट्री को छोड़कर अब इंसानियत की खिदमत और अपने पैदा करने वाले के हुकुम पर चलने का पक्का इरादा कर रही हैं। उनके इस फैसले के बाद से ही वह सोशल मीडिया पर छाई हुई हैं।

सना खान का जन्म 21 अगस्त 1988 को मुंबई में हुआ था। सना ने अपने करियर की शुरुआत विज्ञापन फिल्मों से की थी। सना मुंबई के धारावी में पली बढ़ी हैं। सना ने बचपन से ही एक्ट्रेस बनने का सपना देखा था। लेकिन उन्हें असली पहचान टीवी रियलिटी शो बिग बॉस से मिली।

सना ने 'बिग बॉस 6' में बतौर कंटेस्टेंट हिस्सा लिया था। यहां से उन्हें काफी पॉपुलैरिटी मिली थी। बिग बॉस के अलावा सना कई फिल्मों में भी नजर आ चुकी हैं। फिल्म 'यही है हाई सोसायटी' से साल 2005 में सना ने अपना बॉलीवुड डेब्यू किया था। इसके अलावा उन्होंने 'बॉम्बे टू गोवा', 'धन धना धन गोल', 'हल्ला बोल', 'जय हो', 'वजह तुम हो' जैसी फिल्मों में काम किया है।

लड़की के अपहरण का भी लग चुका है आरोप

इसके अलावा सना खान साल 2013 में तब चर्चा में आई थीं जब उनपर भाई के साथ मिलकर एक लड़की के अपहरण का आरोप लगा था। इस आरोप के लगने के बाद सना ने सोशल मीडिया और लोगों से दूरी बना ली थी। हालांकि उसके बाद सलमान खान ने सना का सपोर्ट किया था। उन्होंने कहा था कि आपने सना को बिग बॉस में तीन महीने तक देखा है क्या आपको लगता है वो ऐसा करेंगी?

सोशल मीडिया पर दी जानकारी

बता दें कि हाल ही में सना ने सोशल मीडिया पर एक लंबा चौड़ा नोट लिखकर बताया था कि वह फिल्म इंडस्ट्री को छोड़ रही हैं। सना खान ने अपनी पोस्ट में लिखा, "मैं सालों से फिल्म इंडस्ट्री की जिंदगी गुजार रही हूं और इस दौरान मुझे हर की शोहरत, इज्जत और दौलत अपने चाहने वालों की तरफ से नसीब हुई। जिसके लिए मैं उनकी शुक्रगुजार हूं। लेकिन कुछ दिनों से मुझपर ये एहसास कब्जा जमाए हुए है कि इंसान के दुनिया में आने का मकशद क्या सिर्फ ये है कि वो दौलत और शोहरत कमाए? क्या उस पर ये फर्ज आयद नहीं होता कि वो अपनी जिंदगी उन लोगों की खिदमत में गुजारे जो बे-आसरा और बेसहारा हैं?"

"क्या इंसान को ये नहीं सोचना चाहिए कि उसे किसी भी वक्त मौत आ सकती है? और मरने के बाद उसका क्या बनने वाला है? इन दो सवालों का जवाब, मैं मुद्दत से तलाश कर रही हूं। खासतौर पर इस दूसरे सवाल का जवाब कि मरने के बाद मेरा क्या बनेगा। इस सवाल का जवाब जब मैंने अपने मजहब में तलाश किया तो मुझे पता चला कि दुनिया की ये जिंदगी असल में मरने के बाद की जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए है। और वो इससे सूरत में बेहतर होगी जब बंदा अपने पैदा करने वाले के हुक्म के मुताबिक जिंदगी गुजारे और सिर्फ दौलत और शौहरत को अपना मकसद न बनाए। बल्कि गुनाह की जिंदगी से बचकर इंसानियत की खिदमत करे और अपने पैदा करने वाले के बताए हुए तरीकों पर चले।"

सना ने आगे लिखा, "इसलिए मैं आज ये ऐलान करती हूं कि आज से मैं अपने शो-बिज की जिंदगी छोड़कर इंसानियत की खिदमत और अपने पैदा करने वाले के हुकुम पर चलने का पक्का इरादा करती हूं। तमाम बहनों और भाईयों से दरख्वास्त है कि वो अब मुझे शो-बिज के किसी काम के लिए दावत न दें। बहुत-बहुत शुक्रिया।"