SANJAY DUTT: जेल में कैसे गुजारे दिन और क्या सीखा?
Dilip Chaturvedi
| Updated: 25 Feb 2016, 01:53:00 PM (IST)
SANJAY DUTT: जेल में कैसे गुजारे दिन और क्या सीखा?
sanjay dutt

जेल के अंदर ऐसा क्या काम करते थे संजय दत्त, जिसके एवज में उन्हें मिले 440 रुपए...

मुंबई। पुणे की यरवदा जेल में पांच साल की सजा काट रहे बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता संजय दत्त गुरुवार को सुबह रिहा हुए। पुणे से वो चार्टर्ड प्लेन से अपने परिवार के साथ मुंबई पहुंचे। वहां से सीधे सिद्धिविनायक मंदिर गए और बप्पा के दर्शन किए। उसके बाद संजय दत्त मरीन लाइन स्थित कब्रिस्तान गए और मां नरगिस की कब्र पर माथा टेका तथा प्रार्थना की।

गौरतलब है कि 1993 मुंबई बम धमाके से जुड़े मामले में अवैध हथियार रखने के आरोप में सजा काट रहे संजय जब जेल से बाहर आए, तब उनके जेब में 440 रुपए थे। ये रुपए संजय ने सजा के दौरान जेल के अंदर काम करके कमाए हैं। अब सवाल यी है कि संजय ने जेल के अंदर कैसे काटे दिन? सजा के दौरान उन्होंने यहां क्या सीखा? आइए, जानते हैं यरवदा जेल के अंदर संजय दत्त की कुछ खास बातें...

256 दिन सजा हुई कम...
42 महीने यानी मई 2013 से अक्टूबर 2016 तक समय संजू बाबा को यरवदा जेल में बिताना था, लेकिन जेल नियमों के अनुसार, हर कैदी को उसके अच्छे बर्ताव के लिए हर महीने में 7 दिन की सजा माफ  की जाती है। जेल अधिकारियों के मुताबिक, संजय दत्त की 256 दिन यानी आठ महीने की सजा काम हुई है और इसीलिए उन्‍हें आठ महीने पहले ही रिहा कर दिया गया।

संजय ने जेल में क्या सीखा...
सजा काटने के दौरान संजय दत्त को कागज की थैलियां बनाने का काम मिला था। जेल से बाहर आने तक संजय दत्त ने पंद्रह सौ थैलियां बना ली थीं। रोज सुबह पांच बजे उठने के बाद संजय दत्त को दूध और केला दिया जाता था। फिर साढ़े आठ बजे नाश्ता दिया जाता था, जिसमें कभी पोहे, तो कभी उपमा होता था। संजय दत्त को कागज की थैलियां बनाने का काम उनकी ही बैरक में सिखाया गया। शुरुआत में उन्हें एक थैली बनाने में काफी समय लग जाता था, लेकिन धीरे-धीरे वो इस काम को अच्छी तरह सीखे गए थे। उन्हें इस काम में मजा भी आने लगा था।

और जब जेल में बीमार पडऩे लगे संजू
संजय दत्त जेल में बार-बार बीमार रहने लगे थे। इसकी वजह थी घर और परिवार की यादें। संजय को इस बीच कई बीमारियों ने भी अपनी गिरफ्त में लेना शुरू कर दिया था। इससे उबरने के लिए संजय ने अपने कमरे में धार्मिक किताबें पढऩा और योगा करना शुरू किया, तो उनकी तबीयत में सुधार होने लगा। इन 34 महीनों में संजय दत्त को पैरोल पर कई बार छुट्टी भी मिली, जिस पर काफी बवाल भी मचा।

दोस्तों ने नहीं छोड़ा साथ
सांस्कृतिक नाटक की रिहर्सल के दौरान संजय दत्त के दोस्त राजू हिरानी और एक उनके एक और दोस्त उनसे मिलने जेल पहुंचे थे। हाल ही जनवरी में योगा शिविर के दौरान योग गुरु बाबा रामदेव ने भी संजय दत्त से मुलाकात की थी।