मां की एक शर्त पर Shah Rukh Khan करने लगे थे हिंदी में टॉप, बड़ी वजह से बॉलीवुड को मिला किंग खान

By: Neha Gupta
| Published: 28 May 2020, 07:52 PM IST
मां की एक शर्त पर Shah Rukh Khan करने लगे थे हिंदी में टॉप, बड़ी वजह से बॉलीवुड को मिला किंग खान
Shah Rukh Khan

  • शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) को मां ने कराया था हिंदी सिनेमा से प्रेम
  • मां की बड़ी शर्त सुनने के बाद करने लगे थे हिंदी में टॉप (Shah Rukh Khan Top in Hindi)
  • मां के बीमार होने पर शाहरुख की हो गई थी बुरी हालत (Shah Rukh Khan on Mother illness)

नई दिल्ली | बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) की फैन फॉलोइंग सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी है। शाहरुख को बॉलीवुड का किंग खान, बादशाह अलग-अलग नामों से जाना जाता है। लेकिन शाहरुख को यहां तक पहुंचाने में उनकी मां फातिमा (Shah Rukh Khan Mother Fatima) का बेहद अहम योगदान है। शाहरुख अपनी मां के लाडले थे, ऐसे कई किस्से हैं जो आप यकीनन नहीं जानते होंगे। शाहरुख की लाइफ पर लिखने वाले मुश्ताक शेख ने अपनी किताब में बताया था कि एक वक्त था जब किंग खान की हिंदी बेहद खराब (Shah Rukh Khan was bad in Hindi) थी। लेकिन उनकी मां ने उन्हें एक बात कहकर प्रेरित कर दिया था।

शाहरुख की मां ने उनसे कहा था कि अगर तुम हिंदी में अच्छे नंबर लाओगे तो मैं तुम्हे फिल्म दिखाने ले जाऊंगी। हिंदी में फेल होने वाले शाहरुख मां की ये बात सुनकर टॉप (Shah Rukh top in Hindi) करने लगे और वहीं से उनका हिंदी सिनेमा की तरफ प्रेम (Shah Rukh Khan love for hindi cinema) भी बढ़ा। शाहरुख ने बताया था कि मां के साथ उन्होंने पहली फिल्म देव आनंद की जोशीला (Dev anand Joshila) देखी थी। शाहरुख की मां फातिमा को हमेशा से ही अपने बेटे पर पूरा भरोसा था और वो उनकी हर ख्वाहिश पूरी करती थी। उन्होंने बताया था कि कॉलेज जाने के लिए मां से शाहरुख ने कार की डिमांड रखी थी। दूसरे दिन दरवाजे पर कार खड़ी थी।

वहीं एक बार गौरी जब शाहरुख (Shah Rukh Khan and Gauri Khan) की गर्लफ्रेंड थी तब गुस्से में वो उनसे अलग होकर चली गई थीं। शाहरुख की मां को पता चलते ही उन्होंने झट से बेटे को 10 हजार रुपए दिए थे और कहा था कि गौरी को लेकर आओ। मां के बीमार होने के वक्त शाहरुख का बेहद बुरा हाल हो गया था। पिता को खोने के बाद शाहरुख मां को किसी भी हालत में नहीं खोना चाहते थे हालांकि सच तो वो भी जानते थे। उस दौरान सबकुछ भूलकर सिर्फ मां की देखभाल में लगे रहते थे कि किसी तरह वो उन्हें रोक लें। यहां तक मां को रोकने के लिए वो उनसे कई झूठ भी बोला करते थे।