लोगों को आश्चर्यचकित करना पसंद है : शाहिद कपूर
Mahendra Yadav
Publish: Sep, 02 2018 02:57:38 (IST)
लोगों को आश्चर्यचकित करना पसंद है : शाहिद कपूर

लोग आपसे कुछ भी कहें, आप आगे बढ़ते हुए मानदंडों को तोड़कर कुछ अलग करें।

'हैदर मीर हो', 'टॉमी सिंह', 'महाराजा रावल रतन सिंह' और आगामी फिल्म में बॉक्सिंग हीरो 'डिंग्को सिंह' का किरदार निभाने वाले अभिनेता शाहिद कपूर का कहना है कि वे दर्शकों को ऐसे काम से आश्चर्यचकित करना पसंद करते हैं, दर्शक जिसकी उम्मीद शाहिद से नहीं करते हैं।

रचानात्मक व्यक्ति लोगों को आश्चर्यचकित करना चाहते हैं:
एक साक्षात्कार में शाहिद ने एक छवि तोड़कर दूसरी छवि बनाने के सवाल पर कहा, 'रचनात्मक व्यक्ति लोगों को आश्चर्यचकित करना चाहते हैं। इसलिए, लोग आपसे कुछ भी कहें, आप आगे बढ़ते हुए मानदंडों को तोड़कर कुछ अलग करें। मुझे लगता है यही आपकी रचनात्मकता को बाहर लाएगा और बदलाव लाएगा। इसलिए मैं हमेशा यही करना पसंद करता हूं।'

 

मुझे पसंद नहीं कि कोई मुझे बताए, मैं क्या कर सकता हूं: शाहिद कपूर

मुझे पसंद नहीं कि कोई मुझे बताए मैं क्या कर सकता हूं:
उन्होंने कहा, 'मुझे यह पसंद नहीं कि कोई मुझे यह बताए कि मैं क्या कर सकता हूं। मुझे अप्रत्याशित काम कर लोगों को आश्चर्यचकित करना पसंद है। यही मुझे कलाकार बनाता है।' यथार्थवादी फिल्मों पर शाहिद ने कहा, 'यह बहुत अच्छी बात है। यह हमारे समाज का आइना है और यह तथ्य है कि लोग उन कहानियों पर बात करना चाहते हैं जो उनके बारे में हैं।'

 

मुझे पसंद नहीं कि कोई मुझे बताए, मैं क्या कर सकता हूं: शाहिद कपूर

वास्तविक मुद्दों और लोगों पर आधारित फिल्में की जा रही हैं:
शाहिद ने कहा,'एक समय था जब मैं ऐसी फिल्मों का हिस्सा था जिनसे मैं जुड़ नहीं सका था।' उन्होंने कहा, 'यह देखना सुखद है कि अच्छी कहानियों को स्वीकार किया जा रहा है। वास्तविक मुद्दों और लोगों पर आधारित फिल्में की जा रही हैं।' उन्होंने कहा,'इसलिए ऐसी फिल्मों में मुझे जो भी मौका मिल रहा हैं, मैं दोनों हाथों से उसे हथिया रहा हूं।' उन्होंने कहा,'फिल्म निर्माता और लेखक जिस प्रकार से कथा वस्तु बनाना सीख रहे हैं, वह शानदार है। आप दर्शकों को हर चीज का मिश्रण देते हैं। यह एक अच्छा संतुलन होता है।

अपनी नई फिल्म 'बत्ती गुल मीटर चालू' के बारे में उन्होंने कहा, 'यह बहुत मनोरंजक फिल्म है.. इसमें हंसी मजाक है, प्रेम कहानी है, यह दोस्ती और पारिवारिक कहानी पर आधारित है लेकिन साथ ही यह ऐसी बात भी करती है जो वास्तविक, प्रासंगिक और महत्वपूर्ण है।'