जाने क्यों दी शिवसेना ने पाक गजल गायक गुलाम अली को धमकी
Amanpreet Kaur
| Updated: 23 Apr 2016, 02:01:00 PM (IST)
जाने क्यों दी शिवसेना ने पाक गजल गायक गुलाम अली को धमकी
ghulam ali

इस कार्यक्रम के लिए पीएम नरेंद्र मोदी, अमिताभ बच्चन और भारत में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को भी न्यौता भेजा गया है

वाराणसी। पाकिस्तानी गजल गायक गुलाम अली के काशी आने से पहले शिवसेना ने उन्हें यहां न घुसने की चुनौती दी है। इसके चलते शहर की दीवारों, ऑटो, बसों पर गुलाम अली वापस जाओ के पोस्टर भी लगाए जा रहे हैं। गौरतलब है कि 26 अप्रेल को काशी के संकटमोचन मंदिर में गुलाम अली वार्षिक संगीत समारोह में हिस्सा लेने पहुंचेंगे। इस कार्यक्रम के लिए पीएम नरेंद्र मोदी, अमिताभ बच्चन और भारत में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को भी न्यौता भेजा गया है।

यह है विरोध की वजह

शिवसेना के राज्य उप प्रमुख अजय चौबे ने कहा कि मंदिर में शराब संबंधित गीत गाकर दिलों को जोडऩे की बात कही जाती है। शिवसेना किसी भी हाल में पाकिस्तानी गुलाम को यहां घुसने नहीं देगी। गौरतलब है कि पिछले साल संकटमोचन संगीत समारोह में गुलाम अली ने- हंगामा है क्यों बरपा थोड़ी सी जो पी ली है- गीत गाया था। इसके लेकर काीफ विरोध हुआ था।

हिंदु युवा वाहिनी ने भी दी धमकी

गुलाम आली और पाकिस्तान हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को काशी कार्यक्रम पर बुलाए जाने से नाराज हिंदु युवा वाहिनी ने भी धमकी दी है कि वे गुलाम और बासित को काशी में घुसने नहीं देंगे। उधर महंत विशंभर नाथ मिश्र ने बताया कि 26 अप्रेल को गलाम अली का प्रोग्राम होगा। उन्होंने कहा कि संगीत दिलों को जोड़ता है। नफरत करने वालों को करारा जवाब मिलेगा। देनों देशों के रिश्तों में संगीत के जरिए मिठास घोलने का काम किया जा रहा है। विरोध करना ठीक नहीं है।