'ठाकरे': ट्रेलर रिलीज होते ही बाल ठाकरे के रूप में छा गए नवाजुद्दीन, दमदार डायलॉग और शानदार एक्टिंग
Mahendra Yadav
Publish: Dec, 26 2018 07:38:40 (IST)
'ठाकरे': ट्रेलर रिलीज होते ही बाल ठाकरे के रूप में छा गए नवाजुद्दीन, दमदार डायलॉग और शानदार एक्टिंग

बाल ठाकरे की बायोपिक को लेकर सेंसर बोर्ड और शिवसेना आमने-सामने हो गई है।

शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे की बायोपिक को लेकर सेंसर बोर्ड और शिवसेना आमने-सामने हो गई है। फिल्म 'ठाकरे' रिलीज से पहले ही विवादों में आ गई है। सेंसर बोर्ड ने फिल्म के तीन डायलॉग्स पर आपत्ति जताई है और ये सीन काटने के लिए कहा है। वहीं शिवसेना इस बात पर अड़ी है कि बाल ठाकरे की बायोपिक बिना किसी कट के दिखाई जाएगी।

ट्रेलर हुआ रिलीज:
फिल्म 'ठाकरे' का ट्रेलर आज सोशल मीडिया पर जारी कर दिया गया है। इस फिल्म की स्क्रिप्ट शिवसेना के सीनियर नेता संजय राउत ने लिखी है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन ने फिल्म के तीन डॉयलॉग्स पर आपत्ति दर्ज कराई है। लेकिन बोर्ड की आपत्ति के बाद भी ट्रेलर में वह डॉयलॉग मौजूद हैं।

 

bal Thackeray biopic

इन डायलॉग्स पर जताई आपत्ति:
बता दें कि CBFC ने फिल्म के जिन तीन डायलॉग्स पर आपत्ति दर्ज कराई है उनमें से दो बाल ठाकरे ने बोले हैं। ये डायलॉग्स साउथ इंडियंस और बाबरी मस्जिद को लेकर हैं। इस बारे में राउत ने कहा, 'हम सेंसर बोर्ड के दिशा निर्देशों को मान रहे हैं। इससे ट्रेलर के लॉन्च पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।' उन्होंने कहा,'बाला साहेब के बयान हमेशा विवादास्पद रहे हैं। उनके बोलने का स्टाइल ऐसा ही था।'

 

नवाजुद्दीन की दमदार एक्टिंग:
इस फिल्म में अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी (Nawazuddin Siddiqui) ने बाल ठाकरे का किरदार निभाया है। ढाई मिनट के ट्रेलर में नवाजुद्दीन बिल्कुल बाल ठाकरे की तरह दिख रहे हैं। ट्रेलर में उनकी दमदार एक्टिंग साफ दिखाई दे रही है। नवाजुद्दीन सिद्दीकी का फिल्म में गेटअप भी कमाल है और पूरी तरह से ही बाला साहेब ठाकरे जैसे लग रहे हैं। नवाजुद्दीन सिद्दीकी की डायलॉग डिलिवरी बेहद ही शानदार है। बता दें कि फिल्म 'ठाकरे' को अभिजीत फांसे ने डायरेक्ट किया है और इसे संजय राउत ने प्रोड्यूस किया है।

 

bal Thackeray biopic

ट्रेलर की शुरुआत दंगे के सीन से:
ट्रेलर की शुरुआत दंगे के सीन के साथ होती है, जिसमें एक रोता हुआ बच्चा दिखाया गया है। जिसके पास एक पेट्रोल बम आकर फटता है, और उसके बाद दंगों का सीन आ जाता है। इसमें नवाजुद्दीन एक डायलॉग बोलते हैं कि ''मैं जब भी कहता हूं कि जय हिंद जय महाराष्ट्र तो जय हिंद पहले कहता हूं और जय महाराष्ट्र बाद में, क्योंकि मेरे लिए मेरा देश पहले है और राज्य बाद में।'