जब वहीदा रहमान ने अमिताभ बच्चन को कस कर मारा तमाचा

By: पवन राणा
| Published: 03 Feb 2018, 06:39 PM IST

अमिताभ की मां वापस आई तो उन्हें इस बात का पता नहीं चला कि उनके बेटे को थप्पड़ जोर से मार गया है या नहीं।

'चौदहवीं का चांद हो या आफताब हो, जो भी हो तुम खुदा की कसम लाजवाब हो' मोहम्मद रफी का गाया यह गीत वर्ष 1990 की फिल्म 'चौदहवीं का चांद' का है। गुजरे जमाने की अभिनेत्री वहीदा रहमान इसी फिल्म से मशहूर हुई थीं। संयोगवश वहीदा का मतलब भी 'लाजवाब' होता है। अपने करिश्माई अभिनय से पांच दशकों तक दर्शकों के दिल पर राज करने वाली वहीदा सचमुच लाजवाब हैं।

1950 से लेकर 1970 तक बॉलीवुड पर राज करने वाली एक्ट्रेस वहीदा रहमान ने अपने करियर में हर तरह के किरदार को निभाया। कभी भी किसी को-स्टार से लड़ाई झगड़े की खबरें वहीदा को लेकर नहीं आई। एक बार वहीदा अपनी फिल्म ‘रेशमा और शेरा’ की शूटिंग कर रही थी। इस फिल्म में लीड रोल में उनके साथ सुनील दत्त थे, वहीं अमिताभ बच्चन सुनील दत्त के छोटे भाई का किरदार निभा रहे थे।

Amitabh Bachchan

फिल्म के एक सीन में वहीदा को अमिताभ बच्चन के गाल पर जोरदार थप्पड़ जड़ना था। डायरेक्टर चाहते थे कि वहीदा अमिताभ को रियल में थप्पड़ मारे। वहीं शूटिंग के समय अमिताभ बच्चन की मां भी सेट पर मौजूद थीं, उन्होंने वहीदा से कहा था ‘सुनो, मेरे बेटे को थप्पड़ तुम जरा धीरे से मारना।'

amitabh_bachchan

अमिताभ बच्चन की मां तेजी को अपने सामने देखकर वहीदा की हिम्मत नहीं हो रही थी कि वह बिग बी को थप्पड़ मारें। इसके बाद उन्होंने अमिताभ की मां वाली बात डायरेक्टर को बताई। डायरेक्टर किसी बहाने से अमिताभ बच्चन की मां को सेट से दूर ले गए, तब जाकर वहीदा ने शूट पूरा किया और बिग बी को रियल में एक जोरदार थप्पड़ जड़ दिया।

 

amitabh bachchan

जब अमिताभ की मां वापस आई तो उन्हें इस बात का पता नहीं चला कि उनके बेटे को थप्पड़ जोर से मार गया है या नहीं। लेकिन जब उन्होंने इस फिल्म को रिलीज के बाद देखा होगा तो वह इस बात को जरूर समझ गई होंगी।