scriptwhy danny left the role of gabbar | डैनी आखिर क्यों नहीं बन पाए थे शोले के गब्बर? | Patrika News

डैनी आखिर क्यों नहीं बन पाए थे शोले के गब्बर?

15 अगस्त 1975 को रमेश सिप्पी निर्देशित फिल्म शोले रिलीज हुई। फिल्म का शुरूआती रूझान कुछ खास नहीं रहा। लेकिन जैसे जैसे फिल्म को लोगों ने देखा वैसे वैसे फिल्म की लोकप्रियता बढ़ती चली गई। लोग कई कई बार फिल्म को देखने के लिए पहुंचे। फिल्म कहानी जितनी रोमांचक है उतने ही रोचक है फिल्म से जुड़े किस्से भी।

नई दिल्ली

Published: November 19, 2021 05:27:57 pm

साल 1975 में आई फिल्म ‘शोले’ अमिताभ बच्चन के करियर में मील का पत्थर साबित हुई थी। बता दें कि फिल्म में अमिताभ बच्चन के अलावा धर्मेंद्र, हेमा मालिनी और अमजद खान लीड रोल में नज़र आए थे। वहीं शोले को रमेश सिप्पी ने डायरेक्ट किया था।
why danny left the role of gabbar
डैनी आखिर क्यों नहीं बन पाए थे शोले के गब्बर?
इसके अलावा फिल्म में निगेटिव रोल प्ले करने वाले अमजद खान को आज भी उनकी एक्टिंग के लिए याद किया जाता है, लेकिन पहले इस रोल को अमजद नहीं बल्कि डैनी डेंजोंगप्पा को निभाना था। तो आइए जानते हैं इसी से जुड़ी हुई कहानी कि आखिर अचानक शोले से बाहर क्यों हो गए थे डैनी।
यह भी पढें अपने पिता की दर्दनाक मौत देखकर, संजय लीला भंसाली को आया था इस फिल्म का आइडिया

अमिताभ बच्चन ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि, मैं और रमेश सिप्पी साहब बैंगलोर गए थे। यहीं हम लोगों ने फैसला किया था कि इसकी शूटिंग के लिए सबसे सही जगह यही है। हालांकि शूटिंग के लिए रमेश जी बहुत पहले से जगह तलाश कर रहे थे। बैंगलोर को के स्पॉट को तय करने डायरेक्टर रमेश सिप्पी और अमिताभ बच्चन पहुंचे थे। यहीं रमेश सिप्पी ने अमिताभ को बताया कि डैनी शायद ये फिल्म नहीं कर पाएंगे क्योंकि उनके साथ डेट्स को लेकर थोड़ी समस्या हो रही है।
वहीं अमिताभ ने आगे बताया कि, “इसके बाद अमजद खान साहब को कास्ट किया गया तो उसमें भी बहुत विचार-विमर्श हुआ। लेकिन फिल्म करने के बाद मुझे पता चला कि मुझसे पहले शत्रुघ्न सिन्हा साहब के नाम पर चर्चा की गई थी। हालांकि उनके फिल्म छोड़ने के पीछे की मुख्य वजह का मुझे अभी तक पता नहीं चल पाया है।”
यह भी पढें जब दिलीप कुमार पर लगाया गया पाकिस्तानी जासूस होने का आरोप

वहीं मालूम हो कि फिल्म के राइटर सलीम खान ने बताया था कि, “रमेश सिप्पी जी फिल्म में गब्बर के रोल के लिए किसी व्यक्ति की तलाश कर रहे थे। मुझे सुबह के समय अचानक अमजद खान मिल गए थे। मैंने उन्हें देखा और इससे पहले भी मैं कई बार उनकी एक्टिंग देख चुका था। मैंने उन्हें अगले दिन रमेश जी के ऑफिस पर आने के लिए कहा। इसके बाद रमेश जी ने अमजद को देखा और कहा कि ठीक है यही मेरी फिल्म का गब्बर होगा।”
इस फिल्म में अमजद खान ने जोरदार एक्टिंग की और हमेशा हमेशा के लिए गब्बर के नाम से मशहूर हो गए। हालांकि डैनी भी उन दिनों के शानदार विलेन के रूप में जाने जाते हैं। उन्हें घातक फिल्म में कात्या के रोल के लिए याद किया जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

लता मंगेशकर की हालत में सुधार, मंत्री स्मृति ईरानी ने की अफवाह न फैलाने की अपीलAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनावKanimozhi ने जारी किया हिन्दी सब-टाइटल वाला वीडियोIndian Railways News: रेल यात्रियों के लिए अच्छी खबर, 22 महीने बाद लोकल स्पेशल ट्रेनों में इस तारीख से MST होगी बहालएक किस्साः जब बाल ठाकरे ने कह दिया था- मैं महाराष्ट्र का राजा बनूंगा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.