दलित के साथ अमानवीय सलूक, पेड़ से बांध जूतों से पीटा, पेशाब पिलाई

दलित व्यक्ति ने नहीं काटी तो गेहूं की फसल तो दबंगों ने किया अमानवीय सलूक

By: मुकेश कुमार

Updated: 30 Apr 2018, 01:04 PM IST

बदायूं। गेहूं की फसल काटने से इंकार करने पर दबंगों ने दलित व्यक्ति के साथ अमानवीय सलूक किया। गाली-गलौच कर उसकी मूंछ उखाड़ दी। पेड़ से बांधकर पीटा। इसके बाद दबंगों ने उसे जबरन पेशाब भी पिलाई। थाना पुलिस ने इस मामले में कोई ठोस कार्रवाई नहीं की। जिसके बाद पीड़ित व्यक्ति ने आईजी बरेली जोन से गुहार लगाई। वहीं एसएसपी ने इसे मारपीट का मामला बताया है।


गेहूं काटने से किया था इंकार
हजरतपुर थाना क्षेत्र के गांव आजमपुर निवासी सीताराम ने आईजी जोन डीके ठाकुर को दिए शिकायती पत्र में बताया कि गांव के ही रामनिवास और उसके परिवारवालों ने उससे गेहूं की फसल कटाने को कहा था। जिस पर उसने इनकार कर दिया था, क्योंकि उसे अपने खेतों में खड़ी गेहूं की फसल काटनी थी। यह बात दबंगों को नागवार गुजरी।


दबंगों ने किया अमानवीय सलूक
सीताराम के मुताबिक वो 24 अप्रैल को अपने खेत में भूसा एकत्र कर रहा था। तभी गांव के विजय सिंह, शिलेंद्र, विक्रम सिंह और पिंकू वहां आ गए। इन लोगों ने पहले उसे जातिसूचक शब्द बोल कर गालियां दी। फिर घसीटते हुए एक पेड़ के पास ले गए। जहां उसे पेड़ से बांध दिया गया। इसके बाद दबंगों ने उसके साथ अमानवीय सलूक किया।


जूते में भरकर पेशाब पिलाई
पीड़ित सीताराम का आरोप है कि इन दबंगों ने पेड़ से बांध कर उसे पीटा। जूते में पेशाब भर उसे पिलाई। किसी तरह इसकी खबर सीताराम की पत्नी को हुई। जिसके बाद वो दौड़ कर खेतों में पहुंची। तब जाकर दबंगों ने सीताराम को छोड़ा। पुलिस द्वारा कोई ठोस कार्रवाई न होने पर पीड़ित ने आईजी जोन से गुहार लगाई। जिसके पाद आईजी ने एसएसपी से मामले की जानकारी लेकर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई का आदेश दिया है।


आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज
एसएसपी अशोक कुमार शर्मा के अनुसार पीड़ित व्यक्ति और गांव के लोगों में मारपीट का मामला सामने आया है। जिसमें पुलिस ने कार्रवाई की थी मगर घटना झूठी पाई गई थी। अब फिर पीड़ित ने पिटाई का आरोप लगाया है। उसकी शिकायत पर मामला दर्ज करा दिया गया है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Show More
मुकेश कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned