बदायूं में संक्रामक रोग का प्रकोप, सीएमओ मना रहे छुट्टी

बदायूं में संक्रामक रोग का प्रकोप, सीएमओ मना रहे छुट्टी

Amit Sharma | Publish: Sep, 05 2018 07:23:42 PM (IST) Budaun, Uttar Pradesh, India

सीएमओ की शिकायत स्वास्थ्य मंत्री से की गई है।

बदायूं। जिले में संक्रामक रोक का प्रकोप जारी है, अगर स्वास्थ्य विभाग के ही आंकड़ों को सच मान लिया जाए तो बुखार से अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है लेकिन हकीकत में बुखार से मौत की 65 से ऊपर निकल चुकी है। जिला अस्पताल में रोजाना करीब 2500 मरीज आ रहे हैं जिसमें केवल बुखार के मरीजों की संख्या आधे से भी ज्यादा है। जिला अस्पताल में बेड की संख्या कम पड़ गयी है और एक-एक बेड पर दो-दो मरीज़ों का इलाज चल रहा है।

सीएमओ छुट्टी पर

अस्पताल में लापरवाही भी साफ दिखाई देती है, बहुत सारे मरीजों के बेड पर चादरें भी नहीं हैं। जब एडी हैल्थ ने अस्पताल का दौरा किया तो उनके आने के बाद मरीजों को चादरें दी गयीं। वहींं जिला अस्पताल में दवाइयों की भारी किल्लत होना शरू हो गई है और मरीजों को ज़रूरी दवाइयां भी नहीं मिल पा रही हैं। सबसे बड़ी लापरवाही तो यह है कि संक्रामक बुखार के प्रकोप के बाद जिले के सीएमओ छुट्टियां मना रहे हैं।

सीएमओ की शिकायत शिक्षामंत्री से

जिला अस्पताल में रोजाना 2500 के आसपास मरीज आ रहे हैं जिसमें आधे से ज्यादा मरीज बुखार के हैं। जिला अस्पताल में बेड की संख्या कम पड़ गयी है जिसके कारण एक बेड पर दो-दो मरीजों का इलाज चल रहा है, दवाइयों की कमी के चलते मरीजों को बाहर से भी दवाएं लानी पड़ रही हैं। स्वास्थ्य विभाग इतना कुछ होने के बाद भी अभी तक नींद से जागा नहीं है। स्वास्थ्य विभाग की संवेदनहीनता तब सामने आयी जब उन्होंने संक्रामक बीमारियों को फैलने के लिए स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी मानने से इनकार कर दिया, एडी हैल्थ का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी बीमारी होने के बाद इलाज करने की होती है। जिले के बुखार की चपेट में होने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग के सबसे बड़े अधिकारी सीएमओ आशाराम जिले में न होकर छुट्टियां मना रहे हैं । एडी हैल्थ ने सीएमओ की लापरवाही की बात को स्वीकारा। उन्होंने कहा कि ऐसे टाइम पर छुट्टी नहीं जाना चाहिए। इस बात की जानकारी ऊपर तक पंहुचा दी है। वहीं दातागंज के भाजपा विधायक ने स्वास्थ्य मंत्री से सीएमओ की शिकायत की है और डीएम बदायूं ने बिना पूछे जिला छोड़ने पर शासन को लिख दिया है।

Ad Block is Banned