भाजपा प्रत्याशी संघमित्रा मौर्य ने हलफनामे में छिपाई शादी की बात, सामने आ रही बड़ी वजह

भाजपा प्रत्याशी संघमित्रा मौर्य टिकट पाने के बाद लगातार सुर्खियों में हैं।

बदायूं। भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए बदायूं से प्रदेश में कैबनिटे मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी संघमित्रा मौर्य को प्रत्याशी बनाया है। संघमित्रा मौर्य टिकट पाने के बाद लगातार सुर्खियों में हैं। पहले वह मंच से खुद को ‘सबसे गुंडी’ कह कर चर्चा में आईं अब नामांकन में दिए हलफनामे की वजह से चर्चा में हैं।

2009 में दी जानकारी

भाजपा प्रत्याशी संघमित्रा मौर्य द्वारा दिए गए हलफनामे में बिंदुवार अपराध, संपत्ति, वाहन, शिक्षा संबधित सभी जानकारी स्पष्ट दी गई है लेकिन उन्होंने अपने हलफनामे में खुद के विवाहित होने से संबंधित कोई जानकारी नहीं दी है। संघमित्रा ने द्वारा दिए गए हलफनामे में पति की जगह पिता का नाम दिया गया है। जबकि 2009 में जब वह मैनपुरी से लोकसभा चुनाव लड़ीं तो उन्होंने हलफनामे में खुद के विवाहित होने की जानकारी दी थी। हलफनामे में पति का नाम डॉ नवल किशोर निवासी सुनहरा पोस्ट भुजपुरा जिला कासगंज दर्ज किया था। लेकिन इस बार संघमित्र मौर्य ने यह जानकारी नहीं दी है।

क्या कहना है संघमित्रा मौर्य का

संघमित्रा मौर्य द्वारा दिए गए हलफनामे में इस बार पति की जानकारी नहीं देना चर्चा का विषय बन गया है। सोशल मीडिया पर संघमित्र का हलफनामा वायरल हो रहा है। वहीं कहा यह भी जा रहा है कि संघमित्रा मौर्य के पति सपा के नजदीकी हैं। इसलिए अब उनके संबंध पति से ठीक नहीं हैं। वहीं मामले में संघमित्रा मौर्य का कहना है कि ‘मैंने कुछ भी नहीं छिपाया है। जिससे मेरी पहचान है मैंने वह हलफनामे में दिया है।‘

BJP
Show More
अमित शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned