हाईवे पर मदद को भटकता रहा बहादुर बेटा, कार में जिंदा जले पापा-मामा

हादसे के बाद बहादुर बच्चा कार का शीशा खोलकर बाहर निकला। उसने अपने पापा-मामा को बचाने का भी प्रयास किया। राहगीरों से मदद भी मांगी।

By: मुकेश कुमार

Updated: 15 Jan 2018, 03:53 PM IST

बदायूं। वजीरगंज थाना क्षेत्र में मुरादाबाद-फर्रुखाबाद हाईवे पर कार में आग लगने से दो लोगों की जलकर मौत हो गई, जबकि कार में सवार बच्चे ने कूदकर अपनी जान बचाई। मरने वाले दोनों व्यक्ति आपस में रिश्तेदार थे। बताया गया है कि अज्ञात वाहन की टक्कर से यह हादसा हुआ है। टक्कर के बाद कार में लगा एलपीजी सिलेंडर लीकेज होने से आग लगी थी।

दातागंज से घर लौट रहे थे लोग
मृतकों में दातागंज थाना क्षेत्र में बादामनगर गांव के निवासी 32 वर्षीय निर्वेश गौतम और बिसौली थाना क्षेत्र के गांव मदनजुड़ी के 31 वर्षीय उमेश साथ थे। दोनों लोग ठेके पर भवनों का लिंटर उठवाते थे। निर्वेश ने अपनी वैगनआर कार बिसौली कस्बे में सही होने के लिए दी हुई थी। रविवार शाम को उमेश किसी काम से दातागंज गए थे। उमेश के यहां से लौटते समय उनके साथ निर्वेश भी बिसौली जाने को कार में सवार हो गए। साथ में निर्वेश का 10 साल का बेटा देव भी था।

शीशा खोलकर कार से कूदा देव
रात करीब नौ बजे मुरादाबाद-फर्रुखाबाद हाईवे पर वजीरगंज से आठ किमी पहले कोई वाहन इनकी कार को टक्कर मारकर निकल गया। इससे गाड़ी की एलपीजी किट में आग लग गई। जिसमें आगे की सीट बैठे निर्वेश और उमेश की कार में ही जलकर मौत हो गई, जबकि पीछे की सीट पर बैठा मासूम देव खिड़की नहीं खुली तो वो शीशा हटाकर कूद गया। मासूम देव इस हादसे का इकलौता चश्मदीद गवाह है। उसने अपने पापा और मामा का बचाने का भी प्रयास किया था।

मासूम के सामने जिंदा जले पापा-मामा
मासूम देव ने बताया कि वो सो रहा था। तभी अचानक जोरदार धमाके से उसका सिर आगे की सीट पर जा लगा। जिससे वो जाग गया। उसने देखा कि गाड़ी के अंदर धुआं और बाहर आग लगी है। उसके पापा और मामा अपनी सीट पर बेहोश पड़े थे। गेट लॉक होने पर उसने एक साइड का शीशा खोला और बाहर कूद गया। उसने कई बार हाईवे पर जाकर इधर-उधर निकल रहे वाहनों को हाथ देकर मदद मांगी पर कोई नहीं रुका। वो कभी कार की तरफ तो कभी हाईवे की ओर भागता रहा। तब एक बाइक पर सवार दो लोग उसे देखकर रुके। उसने बताया तो वे लोग मदद करने आगे आए, लेकिन तब तक कार और उसमें बैठे उसके पापा और मामा पूरी तरह जल चुके थे।

ओवरटेक के बाद हादसे का अंदेशा
वजीरगंज थाने के दरोगा नरेशपाल ने हादसे की वजह ओवरटेक के बाद एक्सीडेंट बताया है। कार दाईं साइड में खड़ी मिली, जबकि उसे बाईं साइड में होना चाहिए था। फिलहाल पुलिस हादसे की जांच में जुटी है। वहीं निर्वेश और उमेश के जिंदा जलने की घटना ने सबका दिल दहला दिया। दोनों परिवारों में मातम पसरा हुआ है।

Show More
मुकेश कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned