खुलासाः बुलंदशहर की घटना काे लेकर एडीजी इंटेलीजेंस ने दी रिपाेर्ट, इसलिए हुई थी हिंसा

खुलासाः बुलंदशहर की घटना काे लेकर एडीजी इंटेलीजेंस ने दी रिपाेर्ट, इसलिए हुई थी हिंसा

shivmani tyagi | Publish: Dec, 08 2018 10:22:57 PM (IST) | Updated: Dec, 08 2018 10:26:42 PM (IST) Bulandshahr, Bulandshahar, Uttar Pradesh, India

एडीजी इंटेलीजेंस की रिपाेर्ट के अनुसार बुलंदशहर का प्रशासन नहीं राेक पाया था गाेकशी की घटनाएं

बुलंदशहर मामले काे लेकर एडीजी इंटेलीजेंस एसबी शिरडकर ने अपनी रिपाेर्ट दे दी है। यह उच्च स्तरीय जांच थी आैर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री याेगी आदित्यनाथ के निर्देश पर ही एडीजी इंटेलीजेंस पूरे मामले की पड़ताल करने के लिए बुलंदशहर पहुंचे थे। इस रिपाेर्ट में उन्हाेंने बुलंदशहर प्रशासन काे ही कठघरे में खड़ा किया है। रिपाेर्ट में प्रथम दृष्टया बुलंदशहर प्रशासन की लापरवाही काे उजागर किया गया है। रिपाेर्ट में कहा गया है कि बुलंदशहर पुलिस प्रशासन गाेकशी राेकने में नाकमयाब रही। सुत्राें के मुताबिक इस रिपाेर्ट में यह आशंका भी जताई गई है कि इंस्पेक्टर सुबाेध कुमार आैर सुमित की हत्या एक ही रिवॉल्वर से की गई है।

पुलिस सूत्राें के मुताबिक एडीजी ने अपनी यह रिपाेर्ट यूपी पुलिस के मुखिया काे साैंप दी है। इस रिपाेर्ट में कहा गया है कि बुलंदशहर में दर्जनभर से अधिक स्टालर हाउस थे। वर्तमान में वहां सिर्फ तीन लाईसेंसी स्लाटर हाउस संचालित हैं। बूचड़खानाें की संख्या घट जाने की वजह से बुलंदशहर में आवारा पशुआें की संख्या में इजाफा हुआ आैर इनमें बड़ी संख्या में गाेवंश की रही। इससे गाेवंश कटान की घटनाएं बढ़ी आैर पुलिस के लिए अवैध गाेवंश कटना राेकना चुनाैती बन गया। पुलिस पूरी तरह से गाेवंश कटना काे राेक नहीं पाई। रिपाेर्ट में यह भी बताया गया है कि भीड़ ने उनकी निजी लाईसेंसी रिवॉल्वर छीन ली आैर उसी रिवॉल्वर से गाेली मारी गई। इस रिपाेर्ट में इस रहस्या काे भी उजागर करने की काेशिश की गई है कि आखिर इसंपेक्टर सुबाेध कुमार काे गाेली कैसे मारी गई थी ?

 

रिपाेर्ट में इस बात की गई है सराहना

बताया जा रहा है कि एडीजी ने अपनी जाे रिपाेर्ट दी है उसमें घटना के पुलिस प्रबंधन की सराहना करते हुए कहा गया है कि इज्तमा से लाैट रहे लाखाें लाेगाें की भीड़ काे देखते हुए सही समय पर लिया गए रूट डायवर्जन प्लान ने एक बड़ी घटना हाेने से बचा ली आैर पुलिस ने सही समय पर सही निर्णय ले लिया।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned